पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बर्ड फ्लू को लेकर डीएनपी में रेड अलर्ट:गोडावण पर बर्ड फ्लू का खतरा, अब तक 80 से ज्यादा अन्य पक्षी मृत मिले

जैसलमेर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • क्लोजर क्षेत्र में विशेष निगरानी, अब तक मृत पक्षियों में दो की रिपोर्ट आई पॉजिटिव, संक्रमण बढ़ने का खतरा बढ़ा

जिले में बर्ड फ्लू का खतरा मंडरा रहा है। कई पक्षी मृत मिल रहे हैं। शुरुआत में मिले 10 कौओं में से 5 के सेम्पल भोपाल भिजवाए गए थे जिसमें से दो की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। ऐसे में यह माना जा रहा है कि जैसलमेर में बर्ड फ्लू की एंट्री हो चुकी है। उसके बाद मृत पक्षियों के मिलने का सिलसिला बढ़ गया। अब तक 80 से अधिक पक्षी मृत मिल चुके हैं। पक्षियों में फैल रहे बर्ड फ्लू से अब राज्य पक्ष गोडावण को भी खतरा बढ़ गया है। हालांकि गोडावण विचरण क्षेत्र में अभी तक कोई मृत पक्षी नहीं मिला जिससे फिलहाल राहत है लेकिन यदि गोडावण इलाकों में किसी अन्य पक्षी में बर्ड फ्लू आ गया तो गोडावण तक भी पहुंच सकता है। यदि एक भी गोडावण में यह वायरस आ गया तो लुप्त प्राय इस पक्षी पर पूरी तरह से लुप्त होने का खतरा बढ़ जाएगा।

डीएनपी में 50 से 60 व सम क्षेत्र के प्रजनन केंद्र में 15 गोडावण, डीएनपी में खतरा सबसे ज्यादा

डीएनपी क्षेत्र में फिलहाल 50 से 60 गोडावण है। वहीं 15 गोडावण सम क्षेत्र के प्रजनन केन्द्र में है। उन्हें तो किसी भी तरह का खतरा नहीं है लेकिन डीएनपी क्षेत्र में रह रहे गोडावण पर खतरा मंडरा रहा है। वन विभाग ने रेड अलर्ट जारी कर दिया है और गोडावण विचरण क्षेत्र आदि में विशेष तौर पर निगरानी की जा रही है। साथ ही इन इलाकों में रहने वाले लोगों से अपील की गई है कि यदि कोई मृत पक्षी मिले तो तुरंत सूचित करें ताकि मृत पक्षी तक कोई गोडावण न पहुंचे।

जानकारों के अनुसार वर्तमान में क्लोजर एरिया में गोडावण को ज्यादा खतरा नहीं है। साथ ही जैसलमेर में जो बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है वह कमजोर है। मगर कुछ हद तक पक्षियों में यह वायरस देखा जा रहा है और उनकी मौत हो रही है। अब दिक्कत यह है कि यदि गोडावण विचरण क्षेत्र में किसी पक्षी की बर्ड फ्लू से मौत हो और उस मृत पक्षी को गोडावण खाए, या फिर एक ही जल स्रोत पर गोडावण के साथ बर्ड फ्लू से ग्रसित पक्षी भी पानी पीले। यह हवा में भी फैलता है। इसके संक्रमण का खतरा तो बना हुआ है लेकिन अभी तक गोडावण सुरक्षित है।

अब तक 80 पक्षी मृत मिले, इनमें से 74 कौए
जैसलमेर में शुरूआत में भेजे गए मृत कौओं के सेम्पल में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी थी। ऐसे में अब यह माना जा रहा है कि यह वायरस का संक्रमण तो है लेकिन सेम्पल जांच के लिए नहीं भेजे जा रहे हैं। इसकी रोकथाम के लिए मृत पक्षियों को अन्यत्र ले जाकर उन्हें दफनाया जा रहा है ताकि उनका सेवन अन्य पक्षी न कर सके। जैसलमेर में अब तक 80 मृत पक्षी मिल चुके हैं जिसमें 74 कौए हैं। ये सभी पक्षी जंगली होने के चलते इस वायरस के इंसानों में फैलने का डर अभी तक नहीं है।

ऐसे बचाया जा सकता है राज्य पक्षी गोडावण को

>क्लोजर क्षेत्र में वॉटर हॉल पर निगरानी बढ़ा दी जाए ताकि अन्य पक्षियों के वहां पहुंचने पर उन्हें रोका जा सके, खास तौर पर कौओं को। >डीएनपी के सभी क्लोजर व अन्य क्षेत्र में मृत पक्षी मिलने पर उसका तुरंत निस्तारण किया जाए। गोडावण उस तक न पहुंच सके। >गोडावण शर्मीले स्वभाव का पक्षी है, सोशल डिस्पेंसिंग की पालना वह खुद करता है, उसके इलाके में उसे बर्ड फ्लू से बचाव के ज्यादा प्रयास हुए तो वह अपना इलाका छोड़ देगा। >गोडावण विचरण क्षेत्र में उनके लिए पर्याप्त खाने की व्यवस्था की जानी चाहिए। ताकि मृत पक्षियों के लिए गोडावण इधर उधर न भटके।

डीएनपी क्षेत्र में रेड अलर्ट है। फिलहाल किसी भी तरह का खतरा नहीं है। हम पूरी तरह से मुस्तैद है। अधिकांश गोडावण क्लोजर में है और वहां किसी भी तरह की दिक्कत नहीं है। हम इस स्थिति पर नजर रखे हुए हैं और गोडावण इस बर्ड फ्लू से बचाने के लिए गंभीरता से जुटे हुए हैं।
कपिल चंद्रवाल, डीएफओ, डीएनपी

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे। किसी मांगलिक कार्य संबंधी व्यवस्था में आप व्यस्त रह सकते हैं। आपकी छवि में निखार आएगा। आप अपने अच...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser