खतरा बढ़ा:दो सगे भाइयों के डेंगू की पुष्टि,दो दिन में आए चार नए मरीज

जैसलमेर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिला कोरोना मुक्त होने के बाद अब बारिश की सीजन में पैर पसारने लगा डेंगू

कोरोना से मुक्त हो रहे जैसलमेर में गत दो दिनों में डेंगू के चार मरीज सामने आने से डेंगू का खतरा बढ़ता नजर आ रहा है। शनिवार को दो सगे भाईयों में डेंगू की पुष्टि होने के साथ साथ उनके प्लेटलेट्स भी कम आए। दोनों का इलाज स्थानीय निजी प्रिया अस्पताल में चल रहा है। इससे एक दिन पहले भी इसी अस्पताल में डेंगू के दो मरीज भर्ती हैं। गौरतलब है कि जैसलमेर में डेंगू वायरस की मौजूदगी से चिकित्सा विभाग में हड़कंप मच गया। विभाग ने तत्काल कार्रवाई करते हुए मरीजों के घर पर मेडिकल टीम भेजी और सभी परिजनों के स्लाइड सेंपल लिए। पानी के टांकों में टेमोफोस के साथ ही पूरे घर में केमिकल का स्प्रे भी करवा दिया गया।

जानकारी के अनुसार चार मरीज जो सामने आए हैं उसमें तीन पटवा हवेली इलाके के हैं। ऐसे में इस क्षेत्र में डेंगू वायरस की मौजूदगी हो सकती है। इनके अलावा चौथा मरीज डेडानसर माली समाज भवन में किराए पर रहता है। बताया जा रहा है कि शनिवार को सामने आए डेंगू के दोनों मरीज किशनगढ़ से आए थे। लेकिन इससे पहले भी दो मरीज सामने आ चुके हैं। ऐसे में यह भी माना जा रहा है कि डेंगू वायरस की मौजूदगी जैसलमेर में है और अब चिकित्सा विभाग को जल्द से जल्द इस पर नियंत्रण करने की जरूरत है।

शहर में डेंगू के चार मरीज सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट, रोकथाम के प्रयास शुरू

जैसलमेर में मलेरिया ने तो कई बार पांव पसारे हैं। दो-तीन साल पहले डेंगू के भी कुछ मरीज मिले थे। यहां मच्छर ज्यादा होने के चलते कई बार मलेरिया फैला है। हालांकि पिछले कुछ सालों से दोनों ही वायरस से राहत मिलती नजर आ रही थी लेकिन एक बार फिर डेंगू के मरीज सामने आने से खतरा बढ़ गया है। पिछले दिनों जैसलमेर में अच्छी बारिश हुई थी। करीब एक माह से बारिश नहीं हो रही, ऐसे में जिले भर में मच्छरों की तादाद बहुत ज्यादा है। पटवा हवेली क्षेत्र में डेंगू के तीन मरीज और एक मरीज डेडानसर रोड इलाके से है। ऐसे में संभव है कि शहर के अलग अलग इलाकों में डेंगू वायरस आ चुका है। समय रहते डेंगू पर नियंत्रण नहीं हुआ तो डेंगू फैल सकता है।

नगरपरिषद ने शहर में स्प्रे नहीं किया,अब खुली नींद

आमतौर पर जब भी मच्छर ज्यादा होते हैं तो नगरपरिषद की ओर से रात के समय में गाड़ी पर शहर के हर इलाके में स्प्रे करवाया जाता है ताकि मच्छरों को खत्म किया जा सके। इस बार अभी तक स्प्रे शुरू नहीं किया गया है। अब डेंगू के मरीज सामने आने के बाद नगरपरिषद को शहर में स्प्रे करवाना होगा ताकि शहरवासियों को मच्छरों से बचाया जा सके।

ऐसे लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से करवाएं जांच

डेंगू एक मच्छर जनित वायरस इंफेक्शन या डिजीज है। डेंगू होने पर तेज बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों एवं जोड़ों में दर्द, त्वचा पर चकते आदि निकल आते हैं। डेंगू बुखार को हड्‌डी तोड़ बुखार भी कहते हैं। एडीज मच्छर के काटने से डेंगू होता है। इस वायरस के लक्षण नजर आने पर तत्काल चिकित्सक से जांच करवानी चाहिए ताकि समय रहते इस बीमारी से बचाव हो सके। ​​​​​​​

डेंगू के चार मरीज सामने आए,अलर्ट है विभाग

निजी अस्पताल से हमें चार मरीजों की जानकारी मिली है। इससे पहले डेंगू के मरीज सामने नहीं आए थे। फिलहाल इन चार मरीजों की ही सूचना आई है और हमने तत्काल डेंगू रोधी कार्रवाई भी शुरू कर दी है। डेंगू को लेकर चिकित्सा विभाग गंभीर है और इस पर जल्द से जल्द नियंत्रण का प्रयास किया जाएगा।
डॉ. कमलेश चौधरी, सीएमएचओ, जैसलमेर।​​​​​​​


खबरें और भी हैं...