पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लोगों को परेशानी हो रही:मायलावास के नई वेरी में पेयजल संकट, तीन माह से नहीं हो रही पानी की सप्लाई

मायलावासएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पेयजलापूर्ति को लेकर भीषण गर्मी की शुरूआत में ही ग्रामीणों व पशुपालकों की परेशानी बढ़ गई हैं। इससे आने वाले महीनों में ये समस्या और विकराल रूप ले सकती हैं। कोरोना महामारी के बाद से ही कई लोगों के कामकाज बंद हैं, ऐसे में पानी की आपूर्ति नहीं होने से मोल पानी मंगवाकर काम चलाना भी मुश्किल हो गया है। गांव के नई वेरी पर पिछले 3 माह से जलापूर्ति ठप हैं। साथ ही विभिन्न वार्डों में पिछले 1 माह से पेयजल समस्या बनी हुई हैं।

नई वेरी में रहने वाले करीब 100 लोगों की बस्ती के लिए जलदाय विभाग ने एक पेयजल टंकी का निर्माण करवाया हुआ हैं, लेकिन गत तीन माह से जलापूर्ति नहीं हो रही है। ग्रामीण राजू सोलंकी माली ने बताया कि नई वेरी में पशुओं को भी पानी के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा हैं। वहीं मायलावास गांव के वार्डों में भी पानी की सप्लाई नियमित नहीं हो रही है। 10 दिन में एक बार पानी की सप्लाई की जाती हैं। पानी की सप्लाई के दौरान बिजली गुल होने पर पानी की आपूर्ति बंद हो जाती हैं। कई बार पूरे दिन में 5-5 मिनट की 20 से 30 बार की सप्लाई में पानी की आपूर्ति की जाती हैं।

बार-बार पानी की सप्लाई रुक जाने से ग्रामीण दूसरे काम भी नहीं कर पाते हैं। मायलावास गांव के रेलवे स्टेशन, गोगाजी चौराहा, ठाकुरजी मंदिर, मालियों की वास, राजपुरोहितों की वास सहित सभी जगहों पर लगभग 7 से 10 दिन के अंतराल में पानी की आपूर्ति की जा रही हैं। इससे गर्मी के मौसम में पेयजल समस्या से ग्रामीण परेशान हैं। मायलावास गांव में बनी पेयजल टंकियों में भी पानी की सप्लाई नहीं होने से विभिन्न वेरों पर रहने वाले ग्रामीण परेशान हैं। बढ़े पेयजल संकट व समस्या का समाधान नहीं होने से परेशान ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर को ज्ञापन भेजकर गांव में पेयजल समस्या को नियमित करने की मांग करते हुए बताया कि 7 दिवस में सप्लाई सुचारू नहीं की गई तो मजबूर जलदाय विभाग सिवाना के आगे धरना प्रदर्शन किया जाएगा। रेलवे स्टेशन के वार्ड संख्या 11 के वाशिंदों को पेयजल आपूर्ति के लिए परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यहां बिछाई गई पाइप लाइन में रावले वेरे पर भी पेयजल कनेक्शन दिए हुए हैं। स्टेशन के निवासियों ने बताया कि ढलान और कम दवाब के कारण रेलवे स्टेशन पर रहने वाले लोगों के लिए पूर्व में अलग से पाइप लाइन बिछाई गई थी। इससे यहां के निवासियों को पर्याप्त पानी मिल जाता था, लेकिन जलदाय विभाग ने रेलवे स्टेशन की लाइन में से निकटवर्ती वेरे पर पेयजल कनेक्शन दे दिए। इससे रेलवे स्टेशन पर पानी की सप्लाई के दौरान रावले वेरे पर भी सप्लाई देने से प्रेशर कम पड़ जाता है। इस पर रेलवे स्टेशन के अंतिम छोर पर रहने वाले लोगों को पीने का पानी नहीं मिल रहा है।

खबरें और भी हैं...