पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौसम का हाल:भीषण गर्मी के बाद धूल भरी आंधी शुरू, बादल छाए रहने से दिन का पारा 4 डिग्री गिरा

जैसलमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में एक बार फिर मौसम ने पलटा खाया और तेज रेतीली आंधी के साथ आसमान में बादलों की आवाजाही बनी रही। मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक आंधी तो चली लेकिन बारिश नहीं हुई। गुरुवार को सुबह से ही तेज आंधी का दौर शुरू हो गया। दिन चढ़ने के साथ ही आंधी का असर तेज हो गया। आसमान में धूल के गुबार उड़ते रहे और सोनार दुर्ग रेतीली आंधी से ढका रहा। साथ ही बादलों की आवाजाही भी बनी रही।

तेज हवा चलने व धूप का असर कम होने से गर्मी से काफी हद तक लोगों को राहत मिली। जहां गर्मी के तेवर तेज होने से आमजन परेशान था वहीं आंधी के चलते गर्मी से तो राहत मिली लेकिन जनजीवन अस्त व्यस्त रहा। खास तौर पर गृहणियों को खासी परेशानी उठानी पड़ी। शाम होने के साथ ही आंधी का असर थम गया। गुरुवार को आंधी की वजह से अधिकतम तापमान में 4 डिग्री की गिरावट भी दर्ज की गई।

दूसरी तरफ ग्रामीण क्षेत्रों में आंधी का कहर ज्यादा रहा। दिन भर रेतीले बवंडर चलते रहे। हवा इतनी तेज थी कि कई जगहों पर खासा नुकसान भी हुआ। गनीमत है कि इन दिनों फसलों का सीजन नहीं है नहीं तो किसानों को भारी नुकसान हो सकता था। शहर की तुलना में गांवों में आंधी तेज थी जिससे ग्रामीण इलाकों के कई सड़क मार्गो पर रेत जमा हो गई।

रामगढ़ समेत कई ग्रामीण क्षेत्रों में दिनभर चली धूल भरी आंधी
रामगढ़ सहित आस पास के क्षेत्र में गुरुवार को पूरे दिन चली धूल भरी आंधी ने आम जनजीवन को अस्त व्यस्त कर दिया है। गुरुवार को आंधी के कारण आसमान में रेत का गुब्बार छाया रहा वहीं बिजली गुल होने से लोग परेशान रहे। धूल भरी आंधी की वजह से घरों में रेत की मोटी मोटी परतें जम गई जिसे साफ करने में गृहणियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी।

घर से जितनी रेत निकालो थोड़ी देर में उतनी फिर से जम जाती है। आंधी की वजह से बिजली की आंख मिचौली का खेल चलता रहा जिससे लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। एक ओर जहां लोग धूल भरी आंधी से परेशान रहे वहीं दूसरी ओर बिजली की आंख मिचौली ने परेशानी को बढ़ा दिया।

खबरें और भी हैं...