VDO निलंबित, ई मित्र संचालक फरार:सरकारी योजना के 4 लाख 14 हज़ार खा गया ई मित्र संचालक, सम पुलिस ने जांच की पूरी गिरफ्तारी बाकी

जैसलमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सम थाने में मामले की जांच पूरी। - Dainik Bhaskar
सम थाने में मामले की जांच पूरी।

जैसलमेर के तुर्कों की बस्ती में हुए सबसे बड़े फर्जीवाड़े में भास्कर की खबर के बाद विकास अधिकारी पंचायत समिति सम ने ग्राम विकास अधिकारी राजमल रैगर को निलंबित कर दिया है। वहीं सम थाना पुलिस भी मामले की जांच पूरी कर ली है।

जांच में साबित हो गया है कि फर्जीवाड़े से बनाए विवाह पंजीयन से सरकारी राशि का घोटाला किया गया है। एफ़आईआर के बाद से ही ई मित्र संचालक व तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी (VDO) राजमल रैगर फरार हैं। पुलिस उनकी सरगर्मी से तलाश कर रही है।

तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी राजमल रैगर
तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी राजमल रैगर

4 लाख 14 हजार का भुगतान अली नवाज़ के खाते में

सम थानाधिकारी ऊर्जा राम ने बताया कि हमने समाज कल्याण से इसका रिकॉर्ड मांगा था कि तुर्कों की बस्ती में एक जनवरी 2021 से 9 सितंबर 2021 तक उपहार सहयोग योजना के कितने आवेदन आए। समाज कल्याण ने जानकारी दी कि 7 लोगों के बैंक खाते में सरकारी योजना की करीब 4 लाख 14 हजार की राशि जमा हो चुकी है।

जांच अधिकारी ऊर्जा राम ने बताया कि " हमने उन बैंकों से जानकारी मंगवाई जहां खाते में पैसे गए थे। बैंक से मिली जानकारी में सामने आया कि तीन खाते तो खुद अली नवाज़ के ही हैं और दो खाते उसके ही रिश्तेदार के हैं। रिशतेदारों के खाते में आई रकम अली नवाज़ ने अपनी पत्नी के खाते में ट्रान्सफर कर ली। इस तरह कुल 4 लाख 14 हज़ार रुपए ई मित्र संचालक कि जेब में गए।

फरार ई मित्र संचालक अली नवाज़
फरार ई मित्र संचालक अली नवाज़
एफ़आईआर के बास से ई मित्र बंद
एफ़आईआर के बास से ई मित्र बंद

VDO राजमल रैगर निलंबित ई मित्र संचालक अली नवाज़ फरार

सम थाना पुलिस ने बताया कि जांच में साबित हो गया है कि फर्जीवाड़े से बनाए विवाह पंजीयन से सरकारी राशि का घोटाला किया गया है। एफ़आईआर के बाद से ही ई मित्र संचालक व तत्कालीन VDO राजमल रैगर फरार हैं। पुलिस उनकी सरगर्मी से तलाश कर रही है। VDO (ग्राम विकास अधिकारी) राजमल रैगर को निलंबित कर दिया गया है।

आरोपियों ने सहयोग उपहार योजना में सरकारी राशि की बंदर बांट करने के लिए गांव के लोगों के 79 फर्जी विवाह प्रमाण पत्र बनाए थे। भास्कर एप में इस मामले को एक्सपोज करने के बाद हड़कंप मच गया। इसके बाद सम थाने में मुकदमा दर्ज हुआ।

तुर्कों की बस्ती के निवासी।
तुर्कों की बस्ती के निवासी।
खबरें और भी हैं...