खुले आसमान के नीचे सोने वालों को मिले कंबल:पूर्व राजपरिवार के सदस्यों ने बेआसरा लोगों को ठंड की आहट के साथ ही कंबल बांटे

जैसलमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बेसहारों का सहारा बनो मुहिम - Dainik Bhaskar
बेसहारों का सहारा बनो मुहिम

जैसलमेर में गुलाबी ठंड की आहट के साथ ही पूर्व राजपरिवार के सदस्यों ने बेसहारा व बे आसरा लोगों को कंबल बांटे। नाचना ठाकुर विक्रम सिंह भाटी और उनके परिवार के सदस्यों ने शहर के फुटपाथ पर सोने वाले गरीब बेसहारा लोगों को कंबल बांटकर ठंड से बचने का जुगाड़ किया। इस दौरान उनकी पत्नी व बच्चे उनके साथ रहे।

कंबल बांटते विक्रम सिंह नाचना।
कंबल बांटते विक्रम सिंह नाचना।

बेसहारों का सहारा बनो मुहिम

नाचना ठाकुर विक्रम सिंह भाटी ने बताया कि ठंड कि आहट आते ही वो हर साल इस मुहिम को चलाते हैं ताकि इन सड़कों पर सोने वाले गरीब बेसहारा लोगों को ठंड में परेशान नहीं होना पड़े। इस मुहिम में उनकी पत्नी मेघना कुमारी भाटी व दोनों बच्चे भी हर साल उनके साथ होते हैं, और इस बार भी हम सबने मिलकर "बेसहारों का सहारा बनो मुहिम को चलाया है।

इस मुहिम के तहत हमने शहर के फुटपाथ पर सोने वाले लोगों को कंबल बांटे हैं। हमारी एक ही मंशा है कि लोग भी इस मुहिम से ज्यादा से ज्यादा जुड़ें ताकि आने वाली कड़ाके कि ठंड में वे भी अपने आसपास रहने वाले ऐसे गरीब व बेसहारों का सहारा बन सके।

खबरें और भी हैं...