पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तैयारियों का अवलोकन:जैसलमेर सिटी पार्क में अब बनाया जाएगा गांधी वन, पौधरोपण की तैयारियां शुरू की

जैसलमेर17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कलेक्टर आशीष मोदी, नगरपरिषद के सभापति व सीईओ ने किया तैयारियों का अवलोकन

कलेक्टर आशीष मोदी ने बुधवार को जैसलमेर सिटी पार्क का अवलोकन किया और वहां गांधी वाटिका एवं वन स्थापित करने के लिए की जा रही व्यापक पौधरोपण की तैयारियों व विकास कार्यों का जायजा लिया। इस दौरान नगर परिषद सभापति हरिवल्लभ कल्ला, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी नारायणसिंह चारण, उप वन संरक्षक जीके वर्मा, नगर परिषद के आयुक्त शशिकांत शर्मा, विकास अधिकारी हीराराम कलबी, जिला खेल अधिकारी राकेश विश्नोई, जैसलमेर विकास समिति के सचिव चन्द्रप्रकाश व्यास, स्वर्णनगरी विचार मंच के महेश व्यास, पर्यावरणविद् अमिताभ बालोच व आरएसएमएम के अधिकारी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारीगण एवं कार्मिक उपस्थित थे।

कलेक्टर ने गांधी वाटिका एवं वन स्थापित करने के लिए सिटी पार्क में चल रही तैयारियों के बारे में संबंधित अधिकारियों एवं विशेषज्ञों से चर्चा की और सभी कार्य जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने वाटिका से संबंधित रूपरेखा के बारे में जानकारी लेेते हुए पौधों की प्रजातियों, सिंचाई के लिए तलाई में जल भराव, पादपों की सुरक्षा की दृष्टि से शेष रही चार दीवारी व फेंसिंग शीघ्र पूर्ण कराने, हाईमास्क लाईट को आरंभ करने, सिटी पार्क के भीतर और बाहर पड़े मलबे को हटाने आदि के निर्देश दिए।

गांधी वन एवं गांधी वाटिका में 2100 से अधिक पौधे लगेंगे

इस दौरान नगर परिषद के सभापति हरिवल्लभ कल्ला ने गांधी वन तथा सिटी पार्क विकास की दिशा में हरसंभव प्रयासों में नगर परिषद की पूरी पूरी भागीदारी का भरोसा दिलाया और कहा कि इस दिशा में व्यापक स्तर पर कार्य कराए जाएंगे।

इस दौरान बताया गया कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में जिला प्रशासन, विभिन्न विभागों, नगर परिषद तथा संस्थाओं एवं जनसहयोग से सिटी पार्क में विकसित किए जाने वाले गांधी वन एवं गांधी वाटिका में विभिन्न प्रजातियों के 2100 से अधिक पौधे कुछ दिन बाद अभियान चलाकर लगाए जाएंगे और बेहतर वन विकसित किया जाएगा।

उपस्थित विशेषज्ञों एवं अधिकारियों ने पौधरोपण तथा सिटी पार्क विकास को लेकर महत्वपूर्ण सुझाव दिए। कलेक्टर ने कहा कि इसका यादगार विकास इस तरह किया जाएगा कि लोगों को यहां आकर दिली सुकून एवं आत्म आनंद का अहसास हो।

खबरें और भी हैं...