मिशन वैक्सीन:जैसलमेर जिले के 606 सेंटरों पर केवल 14 घंटे में ही 50 हजार लोगों को लगे कोरोना वैक्सीन, बना रिकॉर्ड

जैसलमेर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • तेज धूप में 50 हजार लोगों के टीका लगाने के लिए टिके रहे कर्मचारी, शहर से लेकर ढाणियों तक पहुंची टीमें

जैसलमेर जिले में पहली बार शुक्रवार को एक ही दिन में 50 हजार लोगों के कोरोना वैक्सीन का टीका लगाकर जिले का नया रिकॉर्ड स्थापित किया गया। इससे पहले जिले में एक दिन में हजार लोगों के टीके लगाए जा चुके है। टीकाकरण महाअभियान को लेकर जिले में 606 सेंटर स्थापित किए गए। शहर से लेकर गांव ढाणियां में पहुंचकर स्वास्थ्य कर्मचारियों ने लोगों का टीकाकरण किया। शुक्रवार सुबह 8 बजे से ही टीकाकरण शुरू हो गया। जो रात करीब 10 बजे तक चलता रहा। टीकाकरण को लेकर लोगों में भी उत्साह देखा गया। रिकॉर्ड स्थापित करने के लिए जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग द्वारा युद्ध स्तर पर तैयारियां की गई थी। इसके लिए 292 टीमों का गठन किया गया। करीब 1 हजार से अधिक स्वास्थ्यकर्मियों ने 50 हजार लोगों के टीके लगाए। टीकाकरण महाअभियान के दौरान 18 वर्ष से अधिक आयु के वंचित रहे लोगों के कोविशील्ड की पहली व दूसरी डोज लगाई गई।

टीकाकरण महाअभियान के दौरान 50 हजार लोगों के टीके लगाने का लक्ष्य हासिल करने के लिए 35 सीएचसी पीएचसी सहित 606 सेंटर बनाए गए। जिसके तहत शहर की मुख्य सड़कों के किनारे भी कैंप लगाए गए। इसके अलावा बस स्टैण्ड पर भी टीकाकरण किया गया। जैसलमेर शहर में 14 व पोकरण शहर में 07 मोबाईल टीमों द्वारा टीकाकरण किया गया। शहरी क्षेत्रों में ट्रांजिट कैंप लगाकर टीकाकरण किया गया।

जैसलमेर जिले में एक ही दिन में 50 हजार लोगों के कोरोना वैक्सीन के टीके लगाकर जिले का नया रिकाॅर्ड बनाया गया। इससे पहले जिले में एक दिन में 22 हजार लोगों के टीके लगाए जा चुके है। जैसलमेर जिले में कुल 5 लाख 5 हजार लोगों का वैक्सीनेशन करने का लक्ष्य है। जिले में शुक्रवार से पहले 3 लाख 32 हजार लोगों के कोरोना वैक्सीन की प्रथम डोज व करीब 1 लाख 1 हजार लोगों को कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज लगाई जा चुकी है। शुक्रवार को 50 हजार लोगों के पहली व दूसरी डोज लगाई गई।

जैसलमेर शहर में टीकाकरण सेंटरों पर लगे स्वास्थ्य कर्मचारियों को भोजन के लिए इंतजार करना पड़ा। इन कर्मचारियों को सुबह बिस्किट के पैकेट व पानी की बोतले दी गई थी। लेकिन दोपहर में खाना नहीं पहुंचा। शाम 4 बजे शहर के सेंटरों पर भोजन के पैकेट वितरित किए गए। जिससे कर्मचारियों को शाम 4 बजे तक भूखा रहना पड़ा। वहीं शहरी क्षेत्र में कई सेंटरों पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को भी वैक्सीनेशन में लगाया गया था। लेकिन उनको भोजन नहीं दिया गया। जिससे आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का बिना भोजन किए ही लक्ष्य अर्जित करने के लिए डटा रहना पड़ा। शुक्रवार को एक ही दिन में 50 हजार लोगों के टीके लगाए गए। जिससे वैक्सीनेशन में बढोत्तरी हुई है।

टीकाकरण महाअभियान सफल रहा। टीकाकरण महाअभियान के तहत 50 हजार लोगों के टीके लगाने का लक्ष्य पूर्ण कर लिया गया। टीकाकरण में लगी टीमों ने देर शाम तक काम किया। प्रभावी मॉनिटरिंग भी की गई। टीकाकरण में लगे कर्मचारियों व स्वास्थ्यकर्मियों की कड़ी मेहनत से ही यह उपलब्धी हासिल हुई है। आगे भी ऐसे अभियान चलाकर अधिक से अधिक टीकाकरण किया जाएगा।
-डॉ. कुणाल साहू, आरसीएचओ।

खबरें और भी हैं...