सीजन का श्रीगणेश:दीपावली के साथ देशी पर्यटकों की आवक शुरू, लाभ पंचमी तक एक लाख सैलानियों की उम्मीद

जैसलमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना काल के बाद पहली बार सैलानियों से स्वर्णनगरी गुलजार हो गया है। दीपावली के दिन से ही जैसलमेर में सैलानियों का पहुंचना शुरू हो गया है। जैसलमेर में हर साल की तरह इस साल भी दीपावली के दिन से पर्यटन सीजन का विधिवत आगाज हो गया है। जिससे जैसलमेर में इन दिनों सैलानियों की रौनक छाई हुई है। गौरतलब है कि आमतौर पर जैसलमेर में नवरात्रा के बाद से ही बंगाली सैलानियों की आवक से पर्यटन सीजन का आगाज हो जाता है। लेकिन पिछले दाे साल से कोरोना के कारण पर्यटन सीजन को काफी नुकसान पहुंचा।

इसके बाद इस बार पश्चिम बंगाल से जैसलमेर तक सीधी कनेक्टिविटी नहीं होने के कारण बंगाली सैलानी जैसलमेर नहीं पहुंच सके। दीपावली तक बंगाली पर्यटकों की आवक के बाद गुजराती सैलानियों की आवक शुरू हो जाती है। जैसलमेर में आमतौर पर नवरात्रा के बाद से पर्यटन सीजन का आगाज होता है लेकिन इस बार कोरोना के कारण दीपावली पर पर्यटन सीजन का श्रीगणेश हो गया। हर जगह सैलानियों की रेलमपेल नजर आने से पर्यटन व्यवसायियों के चेहरे खिल गए है। दो साल से मंदी की मार झेल रहे व्यापारियों को अब राहत की उम्मीद है।

जैसलमेर के पर्यटन स्थलों पर इन दिनों सैलानियों की भीड़ है। सबसे ज्यादा गुजरात से टूरिस्ट आ रहे हैं। सोनार किला, गड़ीसर तालाब व पटवा हवेली सहित पर्यटन स्थलों पर अच्छी-खासी भीड़ देखी जा रही है। जैसलमेर का हर पर्यटन स्थल सैलानियों से गुलजार हो रहा है। सैलानियों की भीड़ से पर्यटन स्थलों पर व्यापारियों के चेहरे पर रौनक लौट आई है। दीपावली से गुजराती पर्यटकों का फ्लो बढ़ गया है। दीपावली से गुजरात में छुट्टियां हो जाती हैं, लाभ पंचम तक गुजरात से लोग रवाना होकर घूमने के लिए निकल जाते है।

पर्यटन की दृष्टि से जैसलमेर सबसे टॉप पर है। ऐसे में गुजरात से रवाना होने वाले अधिकांश सैलानी जैसलमेर की ओर रूख करते है। जिससे ही जैसलमेर में इन दिनों पर्यटन सीजन बूम पर है। आगामी लाभ पंचमी तक गुजराता के बाजार बंद होने के कारण सैलानी इन दिनों भ्रमण पर निकले हुए है। इसके बाद लाभ पंचमी तक यह व्यापारी वापिस अपनी दुकान संभाल लेते है। जिसके कारण जैसलमेर में लाभ पंचमी तक सैलानियों के बूम रहने की उम्मीद है।

31 अक्टूबर से अहमदाबाद समेत दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु व जयपुर से हवाई सेवाएं भी शुरू हो गई है। फिलहाल गुजराती सैलानी आ रहे हैं और इनके बाद देश के अलग-अलग कोने से देशी पर्यटकों की आवाजाही बढ़ेगी। हवाई सेवा ऑफ सीजन में बंद हो जाती है। हाल ही में स्पाइस जेट ने विंटर शेड्यूल जारी कर 31 अक्टूबर से सर्विस शुरू होने की घोषणा की थी। जिससे भी जैसलमेर में सैलानियों की संख्या बढ़ रही है। जैसलमेर में दीपावली से लेकर आगामी लाभ पंचमी तक 1 लाख से ज्यादा सैलानियों के पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है।

लाभ पंचमी के बाद हालांकि सैलानियों की संख्या में जरूर कमी आएगी। लेकिन लाभ पंचमी के बाद से सैलानी जैसलमेर पहुंचेगे। लाभ पंचमी के बाद गुजराती पर्यटकों की आवक कम हो जाएगी। लेकिन इसके बाद उत्तरी भारत से सैलानी जैसलमेर पहुंचने शुरू हो जाएंगे।

जैसलमेर में इन दिनों सैलानियों के बूम को लेकर पर्यटन व्यवसायियों के चेहरे खिल गए है। पिछले दो साल से मंदी की मार झेल रहे पर्यटन व्यवसायियों को इस सीजन से बहुत ज्यादा उम्मीदें है। जिसे लेकर पर्यटन व्यवसायियों द्वारा इस बार अच्छी तैयारियां की गई थी। सैलानियों को लुभाने के लिए पर्यटन व्यापारियों द्वारा होटल व रिसोर्ट को पूरी तरह से सजाया गया था। जिससे यहां पहुंचने वाले सैलानियों को काफी सुकून भी मिल रहा है।

खबरें और भी हैं...