ज्ञापन / इंटक ने निजीकरण को बढ़ावा देने और श्रम कानूनों में बदलाव का किया विरोध

INTUC opposes promoting privatization and changes in labor laws
X
INTUC opposes promoting privatization and changes in labor laws

  • रामगढ़ थर्मल प्लांट के गेट पर किया प्रदर्शन, पीएम के नाम ज्ञापन दिया

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 06:35 AM IST

रामगढ़. विभिन्न राज्यों द्वारा श्रम कानूनों को निरस्त व बदलाव करने सहित केंद्र सरकार की निजीकरण को बढ़ावा देने की नीति के विरोध में रामगढ़ विद्युत उत्पादन मजदूर यूनियन इंटक ने थर्मल मुख्य द्वार पर सोशल डिस्टेंसिंग की पालना के साथ सांकेतिक प्रदर्शन किया तथा काली पट्टी बांधकर विरोध प्रकट करते हुए मुख्य अभियंता के.के. शर्मा के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया। अध्यक्ष पूरणमल शर्मा के नेतृत्व में दिए गए ज्ञापन में बताया कि इस कोरोना काल में संकट एवं परेशानी के दौर से गुजर रहे देशभर के श्रमिकों की हालत सरकार की अनदेखी और श्रमिक विरोधी नीतियों के कारण बदतर हो गई है।  उन्होंने लॉकडाउन के दौरान ठेका फर्मों द्वारा श्रम विभाग द्वारा जारी अनुदेश की अवहेलना करते हुए लॉकडाउन के दौरान वेतन काटने, उद्योगपतियों व नियोक्ताओं के दबाव में आदेश वापस लेने का विरोध किया।

ज्ञापन में उन्होंने अध्यादेश लेकर श्रमिकों के वेतन का भुगतान करवाने, जिन जिन राज्यों में श्रम कानूनों को निरस्त अथवा बदलाव किया गया है उन्हें रद्द कर पूर्व की भांति रखने, जनवरी 2020 से बढ़े एवं जुलाई तथा जनवरी 2021 से बढ़ने वाले महंगाई भत्तों की फ्रीज क़िस्त का भुगतान करने, सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योग में निजी क्षेत्र की हिस्सेदारी बढ़ाने, पैदल घरों को जाते मजदूरों को सुरक्षित घर पहुंचने व रास्ते में दुर्घटना के शिकार हुए मजदूरों को मुआवजा देने, आदेशों के बावजूद उद्योगों नहीं खोलने वालों पर कार्रवाई करने तथा कोविड 19 से बचाव से जुड़े मानकों का पालन कराते हुए कारखाने शीघ्र चालू करावाने की मांग की है।

विरोध प्रदर्शन में इंटक यूनियन शाखा रामगढ़ के अध्यक्ष पूरणमल शर्मा, संरक्षक कल्यानाराम, कोषाध्यक्ष राजीव उपाध्याय, प्रचार मंत्री लक्ष्मण प्रसाद, किशोर सोलंकी, पृथ्वीसिंह, कायमदीन, जीवाराम व अन्य श्रमिक उपस्थित थे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना