पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

ग्रह नक्षत्र:सर्वार्थ सिद्धि व रवि पुष्य योग के लिए गुरु हुए मार्गी, शनि 29 को हाेंगे

जैसलमेर4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • छह ग्रह अपनी राशि में आकर बढ़ाएंगे जातकों का प्रभाव, ज्योतिषीय मान्यता ग्रहों के घर में आने से उद्योग में क्रियाशीलता की उम्मीद

वरीयाम और सर्वार्थ सिद्धि के साथ रविवार को दो शुभ योग एक साथ बने। पुष्य नक्षत्र होने से रवि पुष्य संयोग भी बना। चंद्रमा का मिथुन राशि से कर्क में प्रवेश हुआ जबकि बृहस्पति 29 के बाद शनि पश्चिम से पूरब होकर मार्गी हो जाएंगे। मंगल वक्री होकर पृथ्वी के निकट हुआ। जिसका प्रभाव जीवन में उग्रता और क्रियाशीलता के साथ दोनों ओर प्रभाव दिखाई देगा।

22 सितंबर (शरद संपात) के बाद से दिन छोटा और रात बड़ी होगी। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार स्वराशि में नहीं होने से ग्रहों का प्रभाव 50 प्रतिशत तक रहेगा। सभी ग्रह अपनी राशि में शक्तिशाली होने के साथ उच्च प्रभाव में होते हैं। रविवार से मंगलवार तक शुक्र को छोड़कर सूर्य, मंगल, बुध, गुरु, शनि, चंद्रमा अपने घर में रहेंगे। सूर्य सिंह राशि में, मंगल मेष, बुध कन्या, गुरु धनु, शनि मकर और चंद्रमा मिथुन राशि में होंगे। यह खगोलीय घटना ज्योतिष में महत्वपूर्ण मानी गई है।

ग्रहों की चाल और असर : उद्योगों और दूध-दही व्यापार के लिए शुभ, ग्रहों की चाल से मौसम में बदलाव के संकेत भी मंगल : 11 सितंबर से मेष राशि में होने से वक्री हैं। असर : पृथ्वी के निकट आएगा। क्रियाशीलता बढ़ेगी। उद्योग के लिए शुभ संकेत है। मंगल के उग्र होने से तनाव की स्थिति भी बन सकती है। सूर्य : 15-16 अगस्त से सिंह, 17 सितंबर को कन्या राशि और 22 के बाद दक्षिणी गोलार्ध में प्रवेश करेंगे। असर : 22 सितंबर के बाद शरद संपात का आरंभ होगा। इसके साथ ही दिन छोटा और रात बड़ी होने लगेगी। ऊर्जा में कमी होगी। बुध : कन्या राशि में होकर स्वराशि में रहेंगे असर : उच्च स्तर में होने के साथ पूर्ण शक्ति के साथ होगा। अभी अर्द्ध प्रभाव में हेै। बौद्धिक अनुसंधान होंगे। गुरु : धनु राशि में है। 13 सितंबर को स्तंभी होंगे असर : वक्री से मार्गी होंगे। गुरु व्यावहारिक, नीति-रीति के ज्ञाता, ज्ञान का भंडार आदि माना गया है। इस संबंध में सकारात्मक प्रभाव की उम्मीद है। गुरु की स्थिति शनि के पास होगी। स्वास्थ्य पर असर रहेगा। शुक्र : कर्क में है। प्रभाव कम होता जा रहा है। असर : फिलहाल मध्य स्थिति में है। सुख-वैभव का कारक होने से जनजीवन में मध्यम असर रहेगा। चंद्रमा : 13 से 15 सितंबर तक कर्क में आएंगे असर : 12 सितंबर से उत्तर क्रांति में रहेगा। राहु से सर्वाधिक दूरी पर है। शक्तिशाली अवस्था में होगा। यात्राओं पर असर रहेगा। सफेद वस्तुओं (दूध-दही) के व्यापार में गति आएगी। शनि : मकर में प्रवेश करेंगे, 29 सितंबर को मार्गी होंगे असर : यह शुभ संकेत है। न्याय और उद्योग में क्रियाशीलता बढ़ेगी, क्योंकि शनि विधि-विधान और सामाजिक व्यवस्था के कारक हैं।

जानिए वक्री-मार्गी के अर्थ और प्रभाव

वक्री यानी उल्टी चाल से ग्रह के प्रभाव-शक्ति प्रबल हो जाते हैं। जैसे गुरु के वक्री होने पर जातक नई-नई बातें सोचता है, क्योंकि गुरु ज्ञान के प्रतिनिधि हैं। सूर्य और चंद्र हमेशा मार्गी गति से भ्रमण करते हैं यानी मेष, वृष, मिथुन... क्रम से आगे की ओर चलते हैं। राहु-केतु उल्टा चलते हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें