कलेक्टर ने की समीक्षा:मोदी ने कहा शिविरों में आमजन की समस्याओं का करें मौके पर निस्तारण

जैसलमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रशासन गांवों के संग अभियान की तैयारियों की कलेक्टर ने की समीक्षा

2 अक्टूबर से शुरू होने जा रहे प्रशासन गांवों के संग अभियान को लेकर जिले में प्रशासनिक एवं विभागीय तैयारियों को अंजाम दिया जा रहा है। जिले में इस अभियान के बेहतर क्रियान्वयन एवं अधिक से अधिक जरूरतमंदों एवं पात्र व्यक्तियों को अभियान से लाभान्वित करने के लिए प्रशासन द्वारा बहुद्देश्यीय रूपरेखा बनाई गई है। जिले में इस अभियान की तैयारियों की समीक्षा के लिए कलेक्टर आशीष मोदी की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार आयोजित की गई। इस दौरान प्रशासनिक व विभागीय अधिकारियों ने अब तक की गई तैयारियों के बारे में विस्तार से अवगत कराया।

बैठक में इस अभियान के जिला स्तरीय नोडल अधिकारी व एडीएम हरिसिंह मीना, जिला परिषद सीईओ नारायणसिंह चारण सहित उपखंड अधिकारियों, विभागीय अधिकारियों सहित अभियान से संबंधित अधिकारियों ने हिस्सा लिया। बैठक में कलेक्टर ने अभियान के उद्देश्यों के अनुरूप शिविरों का संचालन करते हुुए लंबित कार्यों के निस्तारण, विभिन्न योजनाओं व कार्यक्रमों में पात्रजनों को अधिक से अधिक संख्या में लाभान्वित करने, शिविरों से पूर्व प्री कैंप के माध्यम से तैयारी एवं व्यापक प्रचार प्रसार सुनिश्चित करने आदि के लिए गंभीरतापूर्वक एवं समर्पित होकर दायित्वों का निर्वहन करने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने अधिकारियों से कहा कि इन शिविरों में सरकार की मंशा के अनुरूप नियमों व प्रावधानों की सीमाओं का पूरा ध्यान रखते हुए कार्रवाई करें और हर शिविर की बेहतर उपलब्धि सामने लाएं। इसके साथ ही उन्होंने निर्धारित प्रपत्रों में दैनिक सूचनाओं का समय पर संप्रेषण करने, हर विभाग में अधिकारी स्तर का एक नोडल अधिकारी नियुक्त करने,हेल्पलाइन तथा नियंत्रण कक्षों का विधिवत संचालन आरंभ करने, सरकारी दफ्तरों का राजस्व रिकॉर्ड में अमल दरामद करने, अतिक्रमणों के मामलों में फोटोग्राफ्स की अनिवार्यता व हर गतिविधि के बारे में स्पष्ट मंतव्य रखते हुए कार्रवाई करने सहित विभिन्न निर्देश अधिकारियों को दिए।

अभियान के जिला स्तरीय नोडल अधिकारी हरिसिंह मीना ने अभियान से संबंधित निर्देशों व आदेशों की विस्तार से जानकारी देते हुए सरकार के निर्देशों का अक्षरशः पालन करने और सूचनाओं के आदान प्रदान के कार्य को गंभीरता से लेने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि हर शिविर से पहले संबंधित अधिकारी पूर्व तैयारी कर लें और पूर्ववर्ती शिविरों को भी प्रभावी बनाएं ताकि जिले में आयोजित प्रत्येक शिविर अपेक्षित उपलब्धियों के साथ सफलता प्राप्त कर सके।

बैठक के दौरान जिला परिषद सीईओ नारायणसिंह चारण ने शिविर की उपलब्धियों के दस्तावेजीकरण पर बल देते हुए कहा कि प्रत्येक शिविर से संबंधित सफलता की कहानी जरूरी है। इस पर कलेक्टर आशीष मोदी ने सभी नोडल अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस दिशा में गंभीर रहें तथा सफलता की कहानी सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय को उपलब्ध कराएं।

खबरें और भी हैं...