पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संक्रमण काल:7 जून से स्कूल खोलने के आदेश पर शिक्षक संघ ने जताई आपत्ति अवकाश बढ़ाने की मांग

रामगढ़9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राजस्थान शिक्षक संघ राष्ट्रीय ने संक्रमण के काल में गृह विभाग के दिशा निर्देशों व स्कूल संचालन के लिए शिक्षा निदेशालय के निर्देशों में उत्पन्न विरोधाभास को समाप्त कर ग्रीष्मावकाश 20 जून तक रखने की मांग की है। संगठन के जिलाध्यक्ष अनोपसिंह सोनू ने बताया कि निदेशक माध्यमिक शिक्षा बीकानेर के 4 जून को आगामी नया सत्र 2021-22 को 7 जून से शुरू करने एवं प्रारंभिक गतिविधियों के संचालन के आदेश जारी किए है।

जो कि शिक्षकों में आपसी वैमनस्य बढ़ाने वाले अव्यवहारिक है। इसको लेकर संगठन द्वारा शिक्षा मंत्री को पत्र लिखा गया है। उन्होंने बताया कि निदेशालय माध्यमिक शिक्षा बीकानेर के आदेश परिवहन चालू नहीं होने तक स्थानीय व बाहरी शिक्षकों में मतभेद पैदा करता है। आदेश में शिक्षकों के लिए प्रमुख कार्य एवं टाइम लाइन जारी की है इसमे 7 जून से 19 जून तक निर्देशित कार्य भी महज औपचारिक होकर वक्त जाया करने जैसे है। संगठन के संभाग संगठन मंत्री राणीदान सिंह भुट्टो ने कहा कि शिक्षा विभाग में नया सत्र 2021-22 को प्रारंभ करने में शिक्षकों कोई ऐतराज नही। लेकिन गृह विभाग राजस्थान सरकार की 31 मई को जारी गाइडलाइन व संक्रमण के खतरे को नजरअंदाज कर केवल औपचारिकताओं के साथ स्कूल संचालन प्रारंभ करने के अव्यवहारिक आदेश प्रदान करना शिक्षकों के साथ अत्याचार करने के समकक्ष है। संगठन के जिला मंत्री नटवर व्यास ने कहा कि गृह विभाग की गाइड लाइन के विपरीत होकर शिक्षकों, बालकों एवं अभिभावकों में संक्रमण का खतरा बढ़ाने वाले है। त्रिस्तरीय जन अनुशासन मॉडिफाइड लॉकडाउन को लेकर 31 मई को लेकर जारी दिशा निर्देश में राज्य के सभी शैक्षणिक, कोचिंग संस्थाएं, लाइब्रेरीज को बंद रखने के निर्देश दिए गए है। साथ ही बिंदु संख्या-7 में सार्वजनिक परिवहन जैसे निजी एवं सरकारी बस पूर्ण रूप से बंद रहेंगे। ऐसे में शैक्षणिक संस्थाओं के बंद होने एवं आवागमन के साधन बंद होने की स्थिति में 6 जून के बाद ग्रीष्मावकाश खत्म होने पर विद्यालय को खोलना तथा शिक्षकों व कार्मिकों का आने जाने के साधनों के बंद होने पर विद्यालय में आने जाने की समस्या उत्पन्न होना स्वाभाविक है। ऐसे में शिक्षकों व संस्था प्रधानों के बीच विरोधाभास उत्पन्न होगा।

इस स्थिति में किसी शिक्षक का येन केन प्रकारेण विद्यालय पहुंचना राज्य सरकार के गृह विभाग की गाइड लाइन का उल्लंघन होगा। औपचारिक कार्यों को मध्य नजर रखते हुए ग्रीष्मावकाश 20 जून तक बढ़ाने एवं निदेशक माध्यमिक शिक्षा के अव्यवहारिक आदेश को निरस्त करवाने के आदेश प्रदान कर राहत प्रदान करने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...