लोंगेवाला वॉर के हीरो भैरों सिंह का हुआ सम्मान:सशस्त्र सेना झण्डा दिवस का आयोजन, सेना की बदौलत शांति का जीवन जी रहे

जैसलमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वीर सैनिक का समान। - Dainik Bhaskar
वीर सैनिक का समान।

जिला सैनिक कल्याण बोर्ड भवन में सशस्त्र सेना झण्डा दिवस का आयोजन किया गया। इस मौके पर सैनिकों, पूर्व सैनिकों व वीरांगनाओं का सम्मान किया गया।

1971 भारत-पाकिस्तान लोंगेवाला युद्ध के हीरो भैरोसिंह का भी इस मौके पर सम्मान किया गया तथा उनके द्वारा युद्ध की जानकारी साझा की गई। जिला कलेक्टर आशीष मोदी ने सशस्त्र सैना झण्डा दिवस पर सभी को बधाई देते हुए कहा कि देश की सीमाओं पर सैनिकों एवं सैनिक अधिकारियों की सुरक्षा की बदौलत हम देश के वासी चैन की नींद से सो रहे है। हम सब आप सबकी बदौलत ही शांति से जीवन यापन कर रहे हैं।

उन्होंने वीर शहीदों को नमन करते हुए कहा कि समाज में सैनिकों एवं वीरांगनाओं का सदैव सम्मान रहता है। हमारा दायित्व है कि उनके कल्याण के लिए सदैव आगे रहे और उनका हर तरह से सहयोग करे। कार्यक्रम में एक्स यूआईटी चेयरमैन उम्मेदसिंह तंवर, पूर्व जिला प्रमुख अंजना मेघवाल, ग्रुप केप्टन ईसीएच राकेश नन्दा, 1971 के भारत पाक लोंगेवाला युद्ध के वीर साक्षी भैरोसिंह, सेवानिवृत कर्नल भीमसिंह, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी ले. कर्नल लालाराम सीवर आदि मौजूद रहे।

शहीदों को दी श्रद्धांजली
शहीदों को दी श्रद्धांजली

हर दिल में सेना का सम्मान व गौरव

कार्यक्रम में जिले के वीर शहीदों की तस्वीर पर पुष्पांजली अर्पित कर सबने श्रद्धा सहित याद किया। कलेक्टर आशीष मोदी ने कहा कि जिला प्रशासन सैनिकों के कल्याण के लिए सदैव तैयार है। उनकी हर समस्या के निदान में किसी प्रकार की कमी नहीं रखेगे। उन्होंने कहा कि देश की शहादत देने वालों को समाज कभी नहीं भूल सकता और उनका हर स्तर पर सदैव नाम ऊंचा रहता है। उन्होंने पूर्व सैनिकों और शहीदों की वीरांगनाओं को विश्वास दिलाया कि प्रशासन उनके मदद के लिए हर समय खड़ा है। ग्रुप केप्टन राकेश नंदा ने सैनिकों के शौर्य गाथा का वर्णन करते हुए कहा कि देश की रक्षा एवं सुरक्षा के लिए हम सभी को सदैव आगे आना है। उन्होंने कहा कि सैनिकों की सेवा ही सबसे ऊपर रहनी चाहिए और उनके कल्याण के लिए हर व्यक्ति को सहयोग देना चाहिए। दरअसल 7 दिसम्बर 1949 से यह दिवस भारतीय सशस्त्र बलों के कर्मचारियों के कल्याण के लिए मनाया जाता हैं।

खबरें और भी हैं...