निर्णय:गांव स्तर पर चारागाह विकास समिति का गठन होगा

जैसलमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
क्षमतावर्द्धन कार्यक्रम के दौरान उपस्थित जनप्रतिनिधि व संभागी। - Dainik Bhaskar
क्षमतावर्द्धन कार्यक्रम के दौरान उपस्थित जनप्रतिनिधि व संभागी।
  • जैसलमेर पंचायत समिति सभागार में ब्लॉक स्तरीय बंजर भूमि एवं चारागाह विकास समिति की बैठक

पंचायत समिति सभागार जैसलमेर में आईटीसी मिशन सुनहरा कल, राजस्थान सरकार और फाउंडेशन फॉर इकोलॉजिकल सिक्योरिटी द्वारा संयुक्त क्षमतावर्धन कार्यक्रम में ब्लॉक स्तरीय बंजर भूमि एवं चारागाह विकास समिति की बैठक आयोजित की गई। जैसलमेर प्रधान रसाल कंवर लखसिंह भाटी की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में बंजर भूमि, चारागाह विकास सहित शामलात से जुड़े सभी मुद्दों पर चर्चा की गई।

साथ जैसलमेर ब्लॉक में ओरण, गौचर व चारागाह की जमीन राजस्व रिकॉर्ड में दर्ज करवाने के लिए चारागाह विकास समितियों का गठन करने सहित अन्य विषयों पर विस्तार से चर्चा हुई। इसके साथ ही समितियों के माध्यम महानरेगा भूमि एवं चारागाह विकास समितियों के बैठक की सूचना प्रपत्र में भिजवाना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। जैसलमेर प्रधान ने सरपंच व ग्राम विकास अधिकारी को बंजर भूमि एवं चारागाह कार्यक्रम में सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने बात कही।

बैठक के दौरान एफईएस जिला समन्वयक मगाराम कडेला ने शामलात भूमि पर पंचायत के अधिकार, शामलात संसाधनों की सुरक्षा, प्रबंधन की विस्तार से जानकारी प्रदान की। उन्होंने बताया कि गांव स्तर पर वार्ड पंच की अध्यक्षता में चारागाह विकास समिति का गठन किया जाना है। जिसके माध्यम से चारागाह विकास कार्य करवाए जा सकते हैं।

चारागाह का विकास के अंतर्गत खाई खुदाई, पौधरोपण, नाडी एवं टांका निर्माण, सेवन घास व चारा लगाने का कार्य कराया जा सकता है। इसके लिए राजस्व गांवों में कमेटियों का गठन आवश्यक है। बैठक में सहायक विकास अधिकारी टाउराम ने समिति के किये गए कार्यो का प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

इनके साथ सभी पंचायतो में संपति रजिस्टर में शामलात संशोधनों को रजिस्टर में दर्ज करने की प्रक्रिया को समझाया। बैठक के दौरान उप प्रधान हेमसिंह, पंचायत समिति सदस्य प्रगाराम छत्रैल, सरपंच, ग्राम विकास अधिकारी व सहायक विकास अधिकारी उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...