पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किश्त की मांग:निजी विद्यालय संचालक बकाया पहली किश्त की मांग को लेकर डीईओ से मिले

जैसलमेर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

निजी शिक्षण संस्था संघ जिला शाखा जैसलमेर के पदाधिकारियों ने जिले के प्राथमिक व माध्यमिक जिला शिक्षा अधिकारियों से भेंट कर आरटीई के तहत अध्ययनरत विद्यार्थियों की सत्र 19-20 की प्रथम किश्त के भुगतान की मांग की। संघ के जिलाध्यक्ष ओम बिस्सा के नेतृत्व में संघ के कार्यकारिणी सदस्यों ने विभाग अधिकारियों के साथ बातचीत कर बताया की विगत सात माह से निजी विद्यालय कोरोना महामारी के चलते पूरी तरह से बंद है और विद्यालयों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। प्रदेश के कई जिलों में संचालक खुदकुशी कर चुके है तो कई डिप्रेशन के शिकार हो रहे है। संघ के सचिव अरविंद छंगाणी ने बताया कि राज्य

सरकार द्वारा आरटीई की किश्त के भुगतान के लिए बजट आवंटित होने के बाद भी जिले में निजी विद्यालयों को भुगतान नही मिला है। जिस पर प्राथमिक विभाग के शिक्षाधिकारी सवेंदनशीलता ने तत्काल संबंधित कर्मचारी को बुलाकर स्थिति की जानकारी ली तथा तमाम अड़चनों का समाधान कर सत्र 19-20 की किस्तों के बिल बनाकर कोष कार्यालय भेजने के निर्देश दिए। विभाग अधिकारियों ने संघ के सदस्यों की मांग को

जायज बताते हुए आगामी एक सप्ताह तक विद्यालयों के खातों में आरटीई की किश्त जमा होने की बात कही। इस दौरान भरत व्यास, अरविंद छंगाणी, गिरीश जोशी, संजय व्यास, परमानंद सोनी, बाबू दान व कीर्तिवर्धन बिस्सा सहित कई विद्यालय संचालक उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...