केबिन के बाहर लगे छपरे में लगी आग:सदर पुलिस के जवानों ने मिट्टी डालकर बुझाई आग, टला बड़ा हादसा

जैसलमेर21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आग बुझाते पुलिसकर्मी - Dainik Bhaskar
आग बुझाते पुलिसकर्मी

शहर के यूनियन चौराहे पर शुक्रवार रात एक केबिन के आगे लगे लकड़ी के छपरे में आग लग गई। आग की घटना से अफरा-तफरी मच गई। सदर पुलिस ने राह गुजरते आग को देखा तो फायर ब्रिगेड को सूचना दी। फायर ब्रिगेड के आने से पहले उन्होंने अपने हाथों से मिट्टी डालकर आग को बुझाने का भरकस प्रयास किया। कुछ देर में फायर ब्रिगेड के पहुंचने के बाद आग पर काबू पाया जा सका, लेकिन तब तक गरीब कैबिन वाले का छपरा जलकर राख़ हो गया। गनीमत रही की आग समय पर बुझा दी गई अन्यथा कैबिन को भी आग लग सकती थी जिससे काफी नुकसान हो सकता था।

दरअसल यूनियन चौराहे पर अनिल भील नामक व्यक्ति का किराने के समान का कैबिन है जहां वो किराने का समान बेचकर अपने परिवार का गुजारा करता है। उसने धूप से बचने के लिए अपने कैबिन के आगे एक लकड़ी का छप्पर बना रखा है। शुक्रवार रात को उस छप्पर में आग लग गई। यूनियन चौराहे पर बैठे लोग उसको बुझाने भागे। तभी सड़क से सदर पुलिस की गाड़ी गुजरी।

कॉन्स्टेबल लूण सिंह महाबार ने आग को देखकर गाड़ी रोकी और सभी पुलिस वाले कैबिन की तरफ भागे। वहां आग बुझाने का साधन नहीं मिलने पर पास ही में पड़ी मिट्टी से ही आग बुझाने का प्रयास शुरू किया। सभी पुलिस वाले अपने हाथों से ही मिट्टी डालकर आग बुझाने लगे। थोड़ी देर में फायर ब्रिगेड भी मौके पर आ गई तथा उसने आग बुझा दी। तब तक लकड़ी का छपरा जलकर राख़ हो चुका था। गनीमत रही की समय रहते आग बुझा दी गई। अगर कैबिन आग पकड़ लेता तो गरीब का बहुत नुकसान हो जाता। हालांकि आग लगने का कारणों का खुलासा नहीं हुआ, लेकिन बताया जा रहा है कि कैबिन के ऊपर से ही बिजली के तार जा रहे हैं। संभवतया उनमें शॉर्ट सर्किट से कोई चिंगारी कि वजह से आग लग सकती है।

खबरें और भी हैं...