• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaisalmer
  • Sanction Of Pension In Few Minutes; Wherein Gomti Devi Got The Ownership Of The Ancestral House; The Administration Brought A Smile With The Villages

शिविर लाया सोहनी देवी की जिन्दगी में उजाला:चन्द मिनटों में पेंशन की मंजूरी, वहीं गोमती देवी को पुश्तैनी मकान का मिला मालिकाना हक; प्रशासन गांवों के संग अभियान लाया चेहरों पर मुस्कान

जैसलमेरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रशासन गांवों के संग - Dainik Bhaskar
प्रशासन गांवों के संग

सांकड़ा पंचायत समिति के उजला ग्राम पंचायत मुख्यालय पर प्रशासन गांवों के संग अभियान शिविर में ऐसी विधवा को राहत प्रदान की, जो पिछले कई साल से पेंशन पाने की तमन्ना संजोये हुए थी। प्रशासन गांवों के संग अभियान के अपने गांव में शिविर होने की जानकारी पाकर सोहनी देवी बड़ी आस लिए आई और पेंशन पाने के लिए अपनी बात रखी। चन्द मिनटों में फटाफट काम करते पेंशन योजना का लाभ पाने का आवेदन करवाकर हाथों-हाथ पेंशन स्वीकृत की गई। शिविर में तहसीलदार बंटी देवी ने विकास अधिकारी गौतमराम चौधरी, सरपंच अशोकदान उज्ज्वल एवं ग्राम विकास अधिकारी पद्मराज की मौजूदगी में सोहनी देवी को पेंशन स्वीकृति प्रमाण पत्र पकड़ाया।

सोहनी देवी को पेंशन स्वीकृति प्रमाण पत्र देते तहसीलदार बंटी राजपूत।
सोहनी देवी को पेंशन स्वीकृति प्रमाण पत्र देते तहसीलदार बंटी राजपूत।

सोहनी देवी ने बताया कि उसके न तो पति है न ही कोई औलाद। इस बुढ़ापे में भी मेहनत मजदूरी करके जीवन यापन करती हूं। उसको शिविर में 1 हज़ार रुपए महीने कि पेंशन स्वीकृत हुई। इस रुपयों से उस अकेली की ज़िंदगी बसर हो जाएगी। दरअसल मुख्यमंत्री एकल नारी सम्मान पेंशन योजना में 60 वर्ष से अधिक आयु की विधवा पेंशनर को 1000 रुपए प्रतिमाह दिए जाएंगे। इसी प्रकार मुख्यमंत्री एकल नारी सम्मान पेंशन योजना में 75 वर्ष से अधिक की विधवा पेंशनर को 1500 रुपए प्रतिमाह पेंशन दी जाएगी। शिविर में आने के कुछ ही समय बाद पेंशन की तमन्ना पूरी होने पर सोहनी देवी बेहद खुश हो उठी।

बुजुर्ग गोमती देवी को मिला मकान का मालिकाना हक़
बुजुर्ग गोमती देवी को मिला मकान का मालिकाना हक़

पुश्तैनी मकान का गोमती देवी को मिला मालिकाना हक़

जैसलमेर पंचायत समिति के बड़ाबाग ग्राम पंचायत मुख्यालय पर आयोजित प्रशासन गांवों के संग अभियान के शिविर में गोमती पत्नी भंवरूराम ने अपने पैतृक मकान का मालिकाना हक पाने के लिए आवेदन पत्र प्रस्तुत किया और बताया कि उनका परिवार पीढ़ियों से इसी मकान में रह रहा है लेकिन आवासीय पट्टा आज तक प्राप्त नहीं हो पाया है। शिविर प्रभारी एसडीएम दौलतराम चौधरी ने संज्ञान लेते हुए गोमती के आवेदन पर निरीक्षण टीम मौके पर भेजी तथा समस्त औपचारिकताएं हाथों-हाथ पूरी कर आवासीय पट्टा जारी कर दिया। सरपंच जशोदा के हाथों पट्टा पाकर वृद्धा गोमती के चेहरे पर मुस्कान तैर उठी। लाठी के सहारे आयी गोमती बहुत खुश हुई।

खबरें और भी हैं...