भैया दूज का त्योहार:बहिनों ने भाई के तिलक लगाकर मनाई भाईदूज

जैसलमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भैया दूज का त्योहार शनिवार को हर्षोल्लास से मनाया गया। इस दिन बहिनों ने अपने भाईयों के तिलक लगाकर मुंह मीठा करवाया। बहिनों ने भाइयों के अलावा अपनी भाभियों के भी तिलक लगाया। जैसलमेर में यह त्योहार परंपरागत रूप से मनाया जाता रहा है। भैया दूज पर पवित्र सरोवर में स्नान करने की परंपरा भी है। मूल रूप से इस त्योहार पर यमुना स्नान, यम पूजन और बहिन के घर के भाई का भोजन विहित है। शास्त्रीय मत के अनुसार इस दिन मृत्यु के देवता यमराज की पूजा होती है। इस दिन को श्रद्धापूर्वक मनाने से भाई की आयु वृद्धि और बहिन को सौभाग्यसुख की प्राप्ति होती है।

शनिवार को कुंवारी कन्याएं और महिलाएं सुबह जल्दी उठी और सज-संवरकर मंदिरों के दर्शन करने पहुंची। जैसलमेर के लक्ष्मीनाथजी सहित सभी मंदिरों में भारी भीड़ थी। बाद में बाजार से मिठाई खरीदी गई। बहिनों ने भाइयों को शुभ मुहूर्त में तिलक लगाया। बदले में भाइयों ने अपनी लाडली बहिनों को उपहार स्वरूप बर्तन, आभूषण या रुपए दिए। इस दिन छोटी-छोटी बालिकाओं में भी अपूर्व उत्साह नजर आया। भैया-दूज के त्योहार पर बहनें भाइयों की लंबी उम्र की कामना करती है। यह त्योहार भाई-बहिन के बीच परस्पर स्नेह को बढ़ाता है। तिलक में श्रीलक्ष्मी का वास माना जाता है। अक्षत पवित्रता का प्रतीक है। वैदिक काल से चला आ रहा यह त्योहार आज भी जैसलमेर में परंपरा और उल्लास से मनाया जाता है।

खबरें और भी हैं...