पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना नियंत्रण:राहत का रविवार; 35 नए पॉजिटिव आए पहली बार संक्रमण दर 3% तक पहुंची

जैसलमेर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पोकरण में नियंत्रण में आया कोरोना, पिछले एक सप्ताह में मात्र 3 मरीज

जैसलमेर में रविवार को कोरोना के सिर्फ 35 पॉजिटिव मरीज ही सामने आए है। संक्रमण दर 3 प्रतिशत तक गिर गई है। रविवार को 1 हजार 135 कोरोना सैंपल की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। जिसमें 1 हजार 100 की रिपोर्ट निगेटिव व 35 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 35 पॉजिटिव में से 8 पॉजिटिव केस जैसलमेर ग्रामीण, 13 पॉजिटिव केस सम, 7 पॉजिटिव केस पोकरण ग्रामीण व 7 पॉजिटिव केस जैसलमेर शहर के सामने आए है।

पोकरण |शहर इन दिनों प्रशासन और चिकित्सा विभाग के अथक प्रयासों के चलते पोकरण शहर में कोरोना पर पूर्ण रूप से नियंत्रण पा लिया गया है। पिछले एक सप्ताह में जहां पोकरण में मात्र 3 मरीज सामने आए हैं। वहीं चिकित्सा विभाग द्वारा प्रतिदिन 450 लोगों के सैंपल लिए जा रहे हैं। जिसके चलते इन दिनों पोकरण क्षेत्र में कोरोना नियंत्रण में आता नजर आ रहा है। कई लोग इस कोरोना की चपेट में आकर अपनी जान गंवा बैठे तो कई लोग कोरोना के इस भयावह चेहरे को देखकर वापस सकुशल अपने घर लौटे हैं। लेकिन अब एक बार फिर से शहर में कोरोना के मरीजों की संख्या में कमी दिखाई दे रही है।

एक दिन में 182 रोगी रिकवर कोरोना संक्रमण दर 3%पहुंची

रविवार तक जैसलमेर में 15 हजार 920 पॉजिटिव सामने आ चुके है। रविवार को 182 मरीज रिकवर होने के साथ कोराेना की दूसरी लहर से अब तक 14 हजार 150 कोरोना पॉजिटिव मरीज रिकवर हो चुके है। जिससे अब जैसलमेर में सिर्फ 1 हजार 147 एक्टिव केस ही बचे है। जैसलमेर में रविवार को 1 हजार 135 में से मात्र 35 पॉजिटिव ही सामने आए है। जिससे जैसलमेर में संक्रमण की दर 3 प्रतिशत तक गिर गई है। कोरोना के 182 मरीज भी रिकवर हो गए है। जिससे 1147 एक्टिव केस जल्द ही रिकवर हो जाएंगे। जैसलमेर में अब कोरेाना पर पूरी तरह से लगाम लगने की संभावना तेज हो गई है।

कम हो रहा खतरा,एक सप्ताह में सिर्फ तीन कोरोना रोगी आए

परमाणु नगरी में कोरोना के हो रहे धमाकों के साथ ही कोरोना का भय बना हुआ था। जहां एक ओर लोगों में दहशत का माहौल था वहीं चिकित्सा विभाग भी दिनरात मरीजों की ट्रेसिंग और होम आइसोलेशन करवाने में जुटा हुआ था। जिसके चलते पोकरण में कोरोना पूर्ण रूप से नियंत्रण में नजर आ रहा है। पिछले एक सप्ताह में कोरोना के मात्र 3 मरीज ही सामने आने के कारण चिकित्सा विभाग भी काफी राहत महसूस कर रहा है। कोरोना महामारी पर नियंत्रण पाने के लिए पूरा प्रशासन कोरोना वॉरियर के रूप में कार्य कर रहा है। लेकिन कोरोना मरीजों से सीधा संपर्क में चिकित्सा विभाग की टीम रही।

डोर टू डोर कार्मिकों ने पहुंचाए किट, घर-घर पहुंच समझाया

शहर में कोरोना पॉजिटिव आने वाले लोगों को चिकित्सा विभाग द्वारा होम आईसोलेट किया गया। वहीं विभागीय अधिकारियों द्वारा एक टीम का गठन किया। जिसके द्वारा पॉजिटिव आने वाले लोगों को डोर टू डोर जाकर मेडिकल किट का वितरण किया गया। ताकि पॉजिटिव आने वाले मरीजों के परिवारजन भी बाहर नहीं निकले और लोगों में आपसी संपर्क कम हो।

कोरोना पर नियंत्रण पाने के लिए विभागीय अधिकारियों के साथ साथ नर्सिंग स्टाफ द्वारा भी घर घर सर्वे कार्य किया। साथ ही घरों में सर्दी जुकाम के मरीजों के सैंपल लिए गए। जिसके कारण शहर में मरीजों की संख्या एकदम स्पष्ट हो गई। इसके साथ ही कोरोना पॉजिटिव आने वाले मरीजों को होम क्वारेंटाइन किया गया।

वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाई गांवों में शिविरों में लगाए टीके
चिकित्सा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कोरोना के खिलाफ इस जंग में हथियार के रूप में सरकार द्वारा दी गई वैक्सीन को लगाने पर जोर रखा। अधिकारियों ने बताया कि 45 से अधिक उम्र के लोगों को लगाई जाने वाली वैक्सीन का व्यापक प्रचार प्रसार कर शिविर लगाए गए। इसके साथ ही लोगों को प्रेरित भी किया गया।

जिसके कारण 18 वर्ष से अधिक उम्र वाली वैक्सीन आने से पहले शहर में 60 प्रतिशत से अधिक 45 से अधिक उम्र के लोगों ने वैक्सीन लगाई। जिसके कारण पोकरण शहर में मृत्युदर भी काफी कम रहा। वहीं वैक्सीनेशन के चलते कोरोना पर नियंत्रण पाया गया।

अपील: कोरोना मरीजों की संख्या में गिरावट फिर भी सतर्क रहने से ही जंग जीत सकेंगे
पोकरण शहर में कोरोना के मरीजों की संख्या में कमी आ रही है। कोरोना पॉजिटिव केस की संख्या कम होना जरूर एक सुखद समाचार है। लेकिन आमजन को फिर भी सतर्क रहना जरुरी है। ऐसे में आमजन और प्रशासन के अथक प्रयासों से इन आंकड़ों पर भी नियंत्रण पाया जा सके।

शहर में पिछले एक सप्ताह में मात्र 3 कोरोना के मरीज सामने आए हैं। जिसका श्रेय चिकित्सा विभाग की टीमों और शहरवासियों को जाता है। चिकित्सकों और टीमों के अथक प्रयासों और शहरवासियों के संयम के कारण कोरोना के मरीजों पर नियंत्रण पाया जा सका है। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में भी सर्वे कार्य किया जा रहा है। ऐसे में जल्द ही पूरे ब्लॉक में कोरोना पर नियंत्रण पाया जाएगा।
-डॉ. लोंग मोहम्मद राजड़, ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी पोकरण

खबरें और भी हैं...