• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • Jaisalmer
  • The Most Sensitive Area Of Rajasthan On The Indo Pak Border, But Due To The Alertness Of BSF, There Is No Infiltration And Smuggling Here Even Once In 15 Years.

शिफ्टिंग सैंड ड्यूंस:भारत-पाक बॉर्डर पर राजस्थान का सबसे अधिक संवेदनशील इलाका लेकिन बीएसएफ की सजगता के चलते यहां 15 साल में एक बार भी घुसपैठ व तस्करी नहीं

जैसलमेर5 महीने पहलेलेखक: सुधीर थानवी
  • कॉपी लिंक
फोटो: दीपक शर्मा - Dainik Bhaskar
फोटो: दीपक शर्मा

जिले में शाहगढ़ बल्ज जो शिफ्टिंग सैंड ड्यूंस के लिए जाना जाता है। जैसलमेर से लगते बॉर्डर पर करीब 32 किमी के इलाके में रेत के टीले अपनी जगह बदल लेते हैं और यहां पर लगी तारबंदी को दफन कर देते हैं। इस क्षेत्र को संवेदनशील माना जाता है, लेकिन बीएसएफ के जवानों की सजगता के चलते यहां पिछले 15 साल में एक बार भी घुसपैठ व तस्करी की घटना नहीं हुई।

जबकि पाक की सीमा से लगते अन्य बॉर्डर पर कई बार इस तरह की घटनाएं हुई है। मुख्य रूप से बाड़मेर,बीकानेर और गंगानगर व पंजाब से लगते बॉर्डर पर मादक पदार्थो की तस्करी के मामले सामने आते रहते हैं। 1992 से पहले तक जब तारबंदी नहीं थी उस समय जिले से लगती सीमा से तस्करी ज्यादा होती थी, तारबंदी होने से जैसलमेर से लगती 472 किमी लम्बी सीमा सुरक्षित हो गई।

लेकिन शाहगढ़ बल्ज जो शिफ्टिंग सैंड ड्यूंस है वह इलाका संवेदनशील बना रहा क्योंकि यहां तारबंदी रेत के धोरों में दब जाती है। बावजूद इसके बीएसएफ की सजगता से यह संवेदनशील इलाका भी पूरी तरह से सुरक्षित है।