किसान महापड़ाव दूसरे दिन भी जारी:किसानों का महापड़ाव में पहुंचना जारी, अधिकारियों के समझाने पर भी नहीं माने किसान, बोले- सरकार ने हर बार धोखे में रखा

जैसलमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किसानों का महापड़ाव - Dainik Bhaskar
किसानों का महापड़ाव

जैसलमेर के मोहनगढ़ कस्बे में किसानों का महापड़ाव बुधवार को दूसरे दिन भी जारी है। अपनी विभिन्न मांगों को लेकर किसानों का महापड़ाव जारी है जिसमें सैकड़ों की संख्या में नहरी व अन्य किसान शामिल हैं। महापड़ाव स्थल पर सरकारी नुमाइंदों का जमावड़ा भी जारी है जो किसानों को समझा रहे हैं। मगर किसानों का साफ कहना है की सरकार ने उन्हें हर बार धोखे में रखा है। उनकी हर समस्या को नज़रअंदाज़ करके किसानों के हितों पर कुठाराघात किया है। इसलिए जब तक हमारी मांगें नहीं मानी जाएंगी तब तक ये महापड़ाव जारी रहेगा।

किसानों का महापड़ाव पर जमावड़ा।
किसानों का महापड़ाव पर जमावड़ा।

किसानों के महापड़ाव पर अधिकारियों की समझाइश जारी

किसानों के महापड़ाव पर मंगलवार से सरकारी अधिकारियों का जमावड़ा लग रहा है। मंगलवार शाम को एसडीएम पोकरण राजेश बिश्नोई पड़ाव स्थल पर आए थे तथा उन्होंने किसानों को समझाया मगर किसानों ने उनकी बात नहीं मानी। किसानों और एसडीएम की समझौता वार्ता में एसडीएम ने उनको कुछ दिनों का समय देने की बात कही थी जिसे किसानों ने सिरे से नकार दिया।

महापड़ाव स्थल पर बुधवार को भी अधिकारियों का डेरा लगा। किसानों को मनाने में सभी विभाग के अधिकारी जुटे। बिजली विभाग से एईएन राजेश कुमार, नहर विभाग से एसई संतोष कुमार, आईजीएनपी 23 वा खंड से एक्सईएन रघुवीर सिंह सुमन, आईजीएनपी TMC खंड से एक्सईएन रघुनाथ राम विश्नोई ने किसानों के बीच पहुंचकर किसान संगठन से उनकी समस्याओ की जानकारी ली। सब विभागों के अधिकारियों ने किसानों से उनकी समस्या को उच्च अधिकारियों के सामने रखकर समाधान करने की बात कही।

केवल आश्वासन नहीं रिजल्ट की मांग

किसान नेता साभान खान ने बताया कि मंगलवार शाम को एसडीएम पोकरण व बुधवार को नहरी व बिजली विभाग के अधिकारी हमारे बीच आये व हमारी समस्याए सुनीं। उन्होंने हमारी समसायाओं को अपने उच्च अधिकारियों के सामने रखकर शीघ्र समाधान करवाने का आश्वासन दिया है, लेकिन जब तक हमारी समस्याओं का समाधान नहीं होगा तब तक हम महापड़ाव जारी रखेंगे।

उन्होंने बताया कि अपनी पूर्ववती मांगें जिनका निस्तारण नहीं होने के कारण हम किसानों को आंदोलन का सहारा लेना पड़ा। किसानों को अपनी फसल की बिजाई से लेकर बेचने तक कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। उनका हमारी सरकारों द्वारा उचित समाधान नहीं होने के कारण मोहनगढ व आस पास के किसानों ने अपनी पांच सूत्रीय मांगों को लेकर मोहनगढ पुलिस थाने के पास महापड़ाव का आयोजन किया।

किसान नेताओं का कहना है कि जब तक हमारी मांगे नहीं मानी जाती हैं तब तक आंदोलन जारी रहेगा। महापड़ाव के दूसरे दिन बुधवार को आस-पास के क्षेत्र के कई किसान महापड़ाव स्थल पर पहुंचे। मौके पर कमल सिंह नरावत, साभान खान, हनुमान राम चौधरी, अजीज खान नाचना, भोम सिंह भाटी, सुगन सिंह रिदवा, पाबु सिंह भुट्टा आदि किसान नेताओं के साथ सैकड़ों किसान जमा हैं।

खबरें और भी हैं...