सिकंदर का हुआ तबादला तो मांगने लगे टीसी:उर्दू टीचर के तबादले पर गांव वालों का विरोध, बोले- टीचर वापस लगाओ वरना टीसी दे दो

जैसलमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूल में टीसी मांगते परिजन। - Dainik Bhaskar
स्कूल में टीसी मांगते परिजन।

स्कूल के उर्दू टीचर के तबादले से ग्रामीण इतने खफा हुए की उन्होंने अपने बच्चों की टीसी स्कूल से मांग ली। मामला पोकरण इलाके के ग्राम पंचायत झलारिया स्थित उच्च प्राथमिक स्कूल का है। इस स्कूल के हैडमास्टर सिकंदर का यहां से तबादला पिछले हफ्ते हो गया जिसको लेकर ग्रामीण व अभिभावक काफी खफा हो गए। उन्होंने स्कूल की तालाबंदी की, प्रदर्शन किए, स्थानीय जनप्रतिनिधियों से भी मुलाकात कर समस्या बताई मगर कोई हल नहीं निकला। आखिरकार थक हार कर इतने मायूस हुए हैं कि अब वे अपने बच्चों कि टीसी मांगने लग गए हैं।

स्कूल के आगे इकट्ठा ग्रामीण
स्कूल के आगे इकट्ठा ग्रामीण

स्कूल में 195 बच्चों में 185 स्टूडेंट्स पढ़ते हैं उर्दू

भणियाना तहसील स्थित गांव रायपालों कि ढाणी में करीब 350 परिवार निवास करते हैं। यहां एक मात्र 8 वीं तक स्कूल है। ग्रामीण कहते हैं कि इस स्कूल में पिछले 2 सालों में जबसे हैडमास्टर सैयद सिकंदर कि नियुक्ति हुई है तभी से स्कूल की कायापलट हो गई है। यहां तक की बच्चे भी पढ़ाई में मन लगाकर पढ़ने लगे हैं। इस सरकारी स्कूल में 195 बच्चों का नामांकन है। जिनमे से 185 बच्चों के तीसरी भाषा के चयन में उर्दू विषय लिया हुआ है। हैडमास्टर उर्दू के ही शिक्षक थे। उनकी वजह से सब अच्छा चल रहा था मगर अब उनका तबादला यहां से बाहर किया गया है जिसका हमें बहुत दुख है। हम चाहते हैं की वही शिक्षक यहां वापस लगे।

स्कूल में गांव के बच्चे।
स्कूल में गांव के बच्चे।

तालाबंदी व धरना प्रदर्शन से हल नहीं निकला तो मांगी टीसी

स्कूल के मास्टर जी का तबादला होने के बाद नाराज़ अभिभावकों व ग्रामीणों ने स्कूल की तालाबंदी कर धरना-प्रदर्शन किए। मगर उसका कोई हल नहीं निकला। उन्होंने स्थानीय नेताओं से भी इस बारे में कहा मगर वहां भी कोई सुनवाई नहीं हुई। आखिरकार गांव वाले इतने परेशान हो गए हैं कि वे अब अपने बच्चों को पढ़ाना ही नहीं चाहते। उन्होंने स्कूल से बच्चों की टीसी मांगनी शुरू कर दी है।

मगर स्कूल प्रशासन इसके लिए तैयार नहीं है। शिक्षा विभाग ने यहां दूसरा उर्दू का शिक्षक भी भेजा मगर ग्रामीणों कि नाराजगी से उनको वापस हटा दिया गया।

ग्रामीण यारू रायपाल ने बताया के हमने प्रशासनिक अधिकारियों से, विद्यालय के प्रधानाध्यापक से, टीचर सिकंदर के स्थानांतरण को निरस्त करके वापस लगाने को लेकर काफी बार मांग की गई, लेकिन ऐसा अभी तक नहीं हुआ है अब ग्रामीणों में भारी आक्रोश है। सभी अभिभावक अपने बच्चों के भविष्य को लेकर चिंतित हैं। अब वे अन्य विद्यालय में प्रवेश दिलवाने के लिए सामूहिक रूप से टीसी की मांग कर रहे हैं। रायपाल का कहना है कि अगर शिक्षा विभाग इस ओर ध्यान नहीं देता है तो आने वाले समय में अनिश्चितकालीन हड़ताल शिक्षा विभाग कार्यालय झलारिया में की जाएगी।

खबरें और भी हैं...