पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पेयजल की किल्लत:कोटड़ी पंचायत के गांवों में जलापूर्ति ठप, टैंकरों से प्यास बुझा रहे ग्रामीण

जैसलमेर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोटड़ी गांव में सूखी पड़ी पशुखेली। - Dainik Bhaskar
कोटड़ी गांव में सूखी पड़ी पशुखेली।
  • भीषण गर्मी में ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की किल्लत, पंचायत मुख्यालय सहित अन्य राजस्व गांवों में 15 दिनों से नहीं हुई पानी की सप्लाई

जिले सहित प्रदेशभर में पिछले कई दिनों से नौतपा का असर दिखाई दे रहा है जिसके चलते पारा 45 डिग्री के पार पहुंच चुका है। ऐसी भीषण गर्मी में भी कई ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की भारी किल्लत देखने को मिल रही है।

जिसके चलते आमजन और मवेशियों की प्यास बुझाना अब ग्रामीणों के लिए बड़ी चुनौती बनी हुई है। जिले की पंचायत समिति सम के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत कोटडी में पंचायत मुख्यालय के साथ-साथ सोडा और मदा गांव में पिछले 15 दिनों से पानी की सप्लाई नहीं होने से ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

मदा गांव में 15 दिन से जलापूर्ति ठप, टैंकरों से प्यास बुझा रहे
मदा गांव में पशु खेली बनी हुई है जिसमें गांव के मवेशी अपनी प्यास बुझाने के लिए आते हैं लेकिन पिछले 15 दिनों से पानी नहीं आने के चलते पशुओं के लिए बनी यह खेली बिल्कुल सूखी पड़ी है। इसके साथ ही जीएलआर के पास बनी हुई एक नई पशु खेली जो कि हाल ही में बनाई गई है उसके बनने के बाद उसमें एक बार भी पानी नहीं भरा गया क्योंकि अब तक उसमें कनेक्शन ही नहीं किया गया। जिसका नतीजा यह है कि बनाई गई यह नई पशु खेली भी टूटने लगी है।

सोडा में ना तो पशु खेली, जीएलआर पर चढ़कर पानी निकालने को मजबूर
सोडा गांव में बनाई गई जीएलआर के पास ना तो कोई पशु खेली बनी हुई है और ना ही उसमें कोई नल कनेक्शन दिया हुआ है। ऐसे में लोगों को पीने का पानी लेने के लिए जीएलआर पर चढ़कर पानी निकालना पड़ता है, लेकिन पिछले 5 दिनों से उसमें भी एक बूंद पानी नहीं आया। इसके साथ ही सोडा गांव में बनाई गई पशु खेली में 1 साल से कनेक्शन ही नहीं किया गया जिसके चलते उसमें कभी पानी नहीं भरा गया, ऐसे में पशु खेली मिट्टी से भरी पड़ी है।

पानी के लिए भटक रहे हैं मवेशी
एक और जहां पिछले कुछ दिनों से पानी की कमी के चलते ग्रामीणों को पानी की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। वहीं पशु खेली के पास अपनी प्यास बुझाने के लिए मवेशी भी भटकते नजर आ रहे हैं और कई पशुओं की प्यास की वजह से अकाल मौत भी हो गई है।

पानी की कमी के चलते ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जल्द ही पेयजल समस्या का समाधान नहीं होता है तो मजबूरन जिला मुख्यालय स्थित विभागीय कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।
-अमरसिंह भाटी, ग्रामीण।

खबरें और भी हैं...