पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

समस्या:जल भराव के कारण हादसे, ट्रैक्टर ट्रॉली का टायर निकला, वाहन फंसे

कवासएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बीएसएनएल केबल बिछाते हुई पानी की लाइन क्षतिग्रस्त, अब परेशानी

नेशनल हाइवे पुलिया के दोनों साइड की बाइपास सड़क मार्ग क्षतिग्रस्त होने के साथ बीएसएनएल केबल बिछाते समय कस्बे में जगह जगह से तोड़ी गई जलदाय विभाग की लाइन से बाइपास सड़क मार्ग पर गड्ढे बने हुए है। जिसको लेकर ट्रैक्टर मय ट्रॉली क्षतिग्रस्त सड़क मार्ग पर बने गड्ढे से गुजरते समय ट्रॉली का टायर निकल गया।

वहीं भुरटिया फाटक के पास जोधपुर से आई एक पत्थर की पट्टियों भारी गाड़ी गड्ढे में धंसने से उसका काफी नुकसान हुआ। जानकारी के अनुसार कवास से गुजर रहे नेशनल हाइवे के पास में बनी सर्विस रोड सरकारी कागजों में नहीं होने से पिछले दस सालों से क्षतिग्रस्त पड़ी है। वहीं हाल ही में बीएसएनएल द्वारा इंटरनेट कनेक्शन के लिए जगह जगह खुदाई कर केबल बिछाई गई।

जिससे पहले से बिछी पानी सप्लाई लाइन को अंडरग्राउंड तोड़ दी। जिससे सप्लाई करने पर बाइपास मार्ग पर गड्ढे हो गए। जिसको लेकर शनिवार को चलते हुए एक ट्रैक्टर ट्रॉली का टायर निकल गया। पत्थर की पट्टियों से भरी एक गाड़ी गड्ढे में धंसने से क्षतिग्रस्त हो गई। इस दौरान पट्टियों भरी गाड़ी खराब हो गई। जिससे बाइपास मार्ग पर सुबह से शाम तक आवागमन बंद रहा।

वार्ड पंच विजय परिहार ने बताया कि हाइवे निर्माण के दौरान बाइपास सड़क मार्ग का नवीनीकरण नहीं करने से पिछले 10 सालों से क्षतिग्रस्त हालात में पड़ी है। बाईपास सड़क मार्ग को 2012 में पूर्व पीडब्ल्यूडी विभाग ने नेशनल हाइवे को हस्तांतरित कर दी थी। लेकिन अभी तक विभाग द्वारा बाईपास सड़क मार्ग की सुध नहीं ली गई।

जिससे आए दिन हादसे घटित हो रहे है। बाइपास मार्ग के नवीनीकरण को लेकर लगातार विभाग के साथ जनप्रतिनिधियों व प्रशासन को लिखित में दिया जा रहा लेकिन कोई कार्रवाई नहीं कि जा रही है। जिससे लगातार हादसे हो रहे है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें