पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना अपडेट:जिले में 289 नए कोरोना केस; 3 की मौत, एक्टिव केस 2947

बाड़मेर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने लोगों की सांसों को संकट में डाल दिया है। जिले के सबसे अस्पताल के हाल ये है कि हर घंटे एक माैत हाे रही है। हर घंटे 12 रोगी संक्रमित आ रहे हैं। इसके अलावा सीटी स्केन के पॉजिटिव मरीज तो काउंट ही नहीं किए जा रहे हैं। डॉक्टर तड़पते मरीजों को बचाने के लिए घंटों कोशिश में जुटे है।

शरीर पसीने से तरबतर है, लेकिन अंतिम सांस तक कोशिश रहती है कि किसी तरह से जान बच जाए, लेकिन कई मरीज आखिर तक तड़पते हुए ही चल बसते हैं। परिजनों की बदहवासी देख डॉक्टर भी खुद को संभाल नहीं पा रहे हैं, परिजनों को ढांढ़स बंधाने से लेकर शव को अस्पताल से बाहर भेजने तक के दर्द को महसूस करते हैं।

सीएमएचओ डाॅ. बीएल विश्नोई ने बताया कि मंगलवार को बाड़मेर जिले में 2181 सैंपल लिए गए। इसमें 289 संक्रमित केस आए है। जबकि 2947 निगेटिव केस आए। जिले में अब तक 175204 जांचें हुई है, जिसमें 9556 पॉजिटिव केस आए। मंगलवार को तीन लोगों ने कोरोना से दम तोड़ दिया। अब तक मरने वालों का आंकड़ा 136 तक पहुंच गया है।

एचआरसीटी पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 256 तक पहुंच गया है। जिला अस्पताल में 299 और बालोतरा में 57 भर्ती है। श्मशान विकास समिति के संयोजक ने बताया कि मंगलवार को दिन में 5 शव दाह संस्कार के लिए आए है, जिसमें 4 कोरोना के थे। जिले में पिछले 24 घंटों में आरटी पीसीआर और एचआरसीटी संक्रमित 25 से ज्यादा लोगों ने दम तोड़ा है। ये कहे कि अब हर घंटे कोरोना जान ले रहा है।

मंगलवार को राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, विधायक मेवाराम जैन ने बाड़मेर जिला अस्पताल का निरीक्षण किया और चिकित्सा अधिकारियों के साथ बैठक कर कोरोना के बढ़ते केस और संसाधनों को लेकर समीक्षा की। मेडिकल कॉलेज प्राचार्य आरके आसेरी, पीएमओ बीएल मंसुरिया, दिनेश परमार, डॉ. गोरधनसिंह थे।

बाड़मेर के मरीजों काे बेड नहीं मिल रहे, जालोर जिले के 30 भर्ती

बाड़मेर जिला अस्पताल में ऑक्सीजन सपोर्ट सभी बेड फुल हो चुके हैं। हाल ये है कि अब नए मरीजों को भर्ती करने के लिए बेड नहीं है। पीएमओ की ओर से पुराने भर्ती मरीज के डिस्चार्ज होने पर ही नए मरीज को भर्ती किया जा रहा है। जबकि हकीकत ये है कि बाड़मेर जिला अस्पताल में 30 जालोर के मरीजों को भर्ती कर रखा है। जालोर जिले में पर्याप्त संसाधन नहीं होने व ऑक्सीजन की कमी के चलते बाड़मेर प्रभारी मंत्री एवं सांचौर विधायक सुखराम विश्नोई की सिफारिश से जालोर के 30 रोगी भर्ती है।

ऐसे में सवाल ये है कि बाड़मेर के रोगी इलाज की आस में अस्पताल से बेरंग लौट रहे है, उन्हें बेड नहीं मिल रहे हैं, लेकिन जालोर के मरीजों को भर्ती किया जा रहा है। जिला अस्पताल में बाड़मेर तहसील के 135, शिव, रामसर व गडरारोड के 58, गुड़ामालानी के 35, सिणधरी के 11, धोरीमन्ना के 20, चौहटन, सेड़वा व धनाऊ के 16, बायतु के 16, बालोतरा का 1, जालोर के 30 और अन्य जिलों के 4 रोगी समेत कुल 366 रोगी भर्ती है।

भास्कर एक्सपर्ट - कोरोना के शुरूआती लक्षण दिखते ही ट्रीटमेंट शुरू कर दें

^कोरोना बहुत भी भयावह स्थिति ले चुका है। हर गांव, कस्बे तक संक्रमण पहुंच गया है। अब इसे रोकने के लिए जो भी लोग संदिग्ध है, जिन्हें सर्दी-जुखाम, सिर दर्द सहित कोरोना जैसे लक्षण है वे तत्काल नजदीक के अस्पताल से इलाज लें। बुखार और इम्युनिटी बढ़ाने की दवा का सेवन करें। इससे समय पर इलाज शुरू होने से रोगी की गंभीर हालत नहीं होगी। जिला अस्पतालों पर भी लोड कम होगा। स्वास्थ्य विभाग की टीमें घर-घर सर्वे कर रही है। निगरानी समितियां, बीएलओ सहित पंचायत स्तर पर कमेटियों को जिम्मेदारी दी गई है। अब 10 सीएचसी पर भी ऑक्सीजन सपोर्ट बेड लगा रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों को नजदीक की पीएचसी, सीएचसी पर ही इलाज मिल जाएगा।-डॉ. बीएल विश्नोई, सीएमएचओ

राजस्व मंत्री की अपील-कोरोना की भयावह स्थिति, लोग शादी-समारोह रद्द करें हमारे लिए जिंदगी से बढ़कर कुछ भी नहीं होना चाहिए

कोरोना की भयावह स्थिति है। इस दौर में हम सब लोगों की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। इन दिनों शादी समारोह और अन्य आयोजनों हो रहे है। जनता से हाथ जोड़ कर अपील कर रहा हूं कि इस दौर में ऐसे आयोजन रद्द करें। हमारे लिए जिंदगी से बढ़ कर कुछ नहीं होना चाहिए, ऐसे में जान बचाना जरूरी है। जिला अस्पताल फुल है, बहुत सीरियस केस भर्ती है। ऐसे में ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ गई है। सोमवार को एक बारगी ऑक्सीजन का संकट उत्पन्न हो गया। आपात स्थिति में जोधपुर और जैतारण से ऑक्सीजन के 159 सिलेंडर मंगवाएं, तब लोगों की जिंदगी बची है। रोज 5 टन ऑक्सीजन चाहिए। हम प्रयास कर रहे हैं कि एक-दो दिन में 5 टन ऑक्सीजन भिवाड़ी से मिल जाएगी। रेमडेसिवर इंजेक्शन की भी कमी है। हम रात-दिन जुटे हुए है कि किसी भी मरीज की संसाधन कमी से जान नहीं जाए। अलग-अलग समाजों के अध्यक्ष, सरपंच आगे आएं और अपील करें कि हम सामाजिक आयोजनों को फिलहाल टालने के लिए लोगों से समझाइश करेंगे। इस तरह की मुहिम हर गांव-कस्बे तक चलाए तो हम जल्द ही इस कोराेना की भयावह स्थिति से उभर सकते हैं।-हरीश चौधरी, राजस्व मंत्री

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें