पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • 40% Less Infected In September October As Compared To July August, 50% Deaths Also Occurred, Half bed Empty In Kovid Centers.

कोरोना से जंग:जुलाई-अगस्त के मुकाबले सितंबर-अक्टूबर में 40% कम संक्रमित,50% मौतें भी घटी, कोविड सेंटरों में आधे बैड खाली

बाड़मेर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • संक्रमण का खतरा टला, जिला अस्पताल के कोविड सेंटर में अब सिर्फ 17 मरीज भर्ती

कोरोना अब काफी हद तक बाड़मेर में नियंत्रण में है। आंकड़ाें के अनुसार जुलाई-अगस्त में जहां एक माह में 1-1 हजार संक्रमित सामने आए थे, जबकि अब यह आंकड़ा 40% तक कम हो गया है। संक्रमित घटे तो मौतों का आंकड़ा भी कम हुआ है। अगस्त में 1000, सितंबर में 700 संक्रमित मिले थे, जबकि अब यह आंकड़ा 500 तक पहुंच गया है।

अब भी रोज दहाई में कोरोना के मरीज मिल रहे हैं, लेकिन पिछले 2-3 माह की तुलना में स्थिति संतोषजनक है। मंगलवार को बाड़मेर जिले में 14 कोरोना राेगी मिले है। जबकि 5 मरीजों को डिस्चार्ज कर दिया गया। अब सिर्फ 236 मरीज ही एक्टिव है। सीएमएचओ डाॅ. बाबूलाल विश्नोई के मुताबिक मंगलवार को 14 पॉजिटिव आए। अब सैंपल की संख्या 3459 तक पहुंच गई है।

5 रोगियों को डिस्चार्ज किया गया। ऐसे में 236 रोगी ही एक्टिव है। अब तक हुई मौतों का आंकड़ा 43 तक पहुंच गया है। जिला अस्पताल के कोविड सेंटर में अब 17 लोग ही भर्ती है। गडरारोड व आईटीआई कोविड सेंटर में 39 मरीज भर्ती है। चौहटन, बायतु, गुड़ामालानी, नाकोड़ा रोड बालोतरा व आर्मी हॉस्पीटल के कोविड सेंटर खाली हो गए है। जहां एक भी मरीज नहीं है। असाड़ा रोड बालोतरा में 3, समदड़ी व सिवाना में 2-2 मरीज भर्ती है।

अभी सावधानी जरूरी, मौसमी बीमारियों के मरीज बढ़े
इन दिनों मौसम बदल रहा है, गर्मी के बाद अब रात में हल्की सर्दी शुरू हो गई है। ऐसे में लोगों में मौसमी बीमारियों से ग्रसित होने की संभावना भी बढ़ गई है। बाड़मेर में वर्तमान में 1500 से 2000 तक ओपीडी पहुंच गई है, जबकि पूर्व में यह आंकड़ा 1000-1500 के बीच में था।

एकाएक मरीज बढ़ने से अस्पतालों में डॉक्टरों से लेकर दवा सेंटरों तक मरीजों की कतार लग रही है। काफी संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ रही है। अस्पतालों में जांच के दौरान भी मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की पालना जरूरी है।

अब जांचें कम हो रही, एक माह में सिर्फ आठ हजार
अगस्त-सितंबर में करीब 22 हजार लोगों के कोरोना सैंपल लिए गए, जबकि अब पिछले एक माह में सिर्फ 8 हजार लोगों के सैंपल लिए है। ऐसे में सैंपल कम लिए जाने से भी मरीजों की संख्या कम हुई है। मौत का आंकड़ा भी एक माह में सिर्फ 7 ही है। अब तक 43 लोगों की जान गई है। हालांकि प्रशासन की आेर से काेरोना से मौत का आंकड़ा भी छिपाया जा रहा है। लगातार हो रही मौत के आंकड़े सरकारी रिकार्ड से गायब है।

खबरें और भी हैं...