उपभोक्ताओं की समस्या:पानी बिल वितरण का 4.50 लाख का टेंडर, फिर भी लोगों तक नहीं पहुंचते, मजबूरी में भरते हैं पेनल्टी

बाड़मेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर. जलदाय विभाग कार्यालय में समय पर वितरण नहीं होने के कारण टेबल पड़े सैकड़ों बिल। - Dainik Bhaskar
बाड़मेर. जलदाय विभाग कार्यालय में समय पर वितरण नहीं होने के कारण टेबल पड़े सैकड़ों बिल।
  • जलदाय विभाग व ठेकेदार की लापरवाही का खामियाजा भुगत रहे हैं उपभोक्ता

जलदाय विभाग का शहर एईएन कार्यालय उपभोक्ताओं तक समय पर बिल भी नहीं पहुंचा पा रहा है। शहर के कई इलाकों में पानी के बिल नहीं पहुंचने के कारण कई उपभोक्ता विलंब शुल्क देकर भुगतान करने को मजबूर है। वहीं विभागीय अधिकारियों व कार्मिक बिल नहीं पहुंचने की शिकायत करने वाले उपभोक्ता को अगली बारी के इंतजार का कहते हुए विलंब शुल्क वसूल रहे हैं।

शहर के कई इलाकों के उपभोक्ताओं का कहना है कि विभाग बिल पहुंचाने में तो लापरवाही कर रहा है। कुछ उपभोक्ता तो ऐसे भी है, जिनके नलों में पानी तक नहीं पहुंचता और बिल थमाया जा रहा है। विलंब शुल्क से बचने के लिए कुछ उपभोक्ता तो एक साथ सालभर का भुगतान करते दिख रहे हैं।

शहर के इंद्रा नगर, इंद्रा कॉलोनी, दानजी की होदी, कोजाणियों का पाड़ा, बलदेव नगर, विष्णु कॉलोनी, रामनगर, शास्त्रीनगर, गांधी नगर, जटियों का नया वास व पुराना वास, शिव मंदिर, सरदारपुरा, जोगियों की दड़ी, रेलवे कुंआ नंबर 3 सहित कई इलाकों में विभाग की ओर से बिल पहुंचाए ही नहीं जा रहे। इन सभी इलाकों के उपभोक्ता कार्यालय में उपस्थित होकर बिलों का भुगतान करने को मजबूर है।

मजबूरी में एडवांस में भरा बिल
बलदेव नगर के कर्मचारी कॉलोनी में दो से ढाई साल होने पर भी विभाग की ओर से बिल नहीं दिए जा रहे हैं। समय पर बिल नहीं मिलने से कई बार तो एडवांस बिल भरना मजबूरी हो गई है। वहीं पानी भी कम प्रेशर से अा रहा है। इस बार भी बिल नहीं मिला अब विलंब शुल्क में भरवाना पड़ेगा।
- हरीसिंह कड़वासरा, बलदेव नगर

2015 से पानी बिल नहीं मिला
बलदेव नगर क्षेत्र में मोहल्लेवासियों को बिल दिए ही नहीं जा रहे हैं। ऐसे में मोहल्लेवासी स्वयं ही जलदाय विभाग पहुंचकर बिल जनरेट करवाने को मजबूर है। सभी घरों में बिल नहीं पहुंचने के कारण विलंब शुल्क से ही बिल जमा करवाए जा रहे हैं। 2015 से कनेक्शन लिया है लेकिन बिल नहीं दिया गया।
- पुखराज सियाग, रीको चौकी

छह महीनाें से पानी बिल नहीं दिए
गांधीनर वार्ड संख्या 26 गली नंबर 4 में पिछले छह महीने से पानी के बिल नहीं दिए जा रहे हैं। ऐसे में जलदाय विभाग कार्यालय में जाकर विलंब शुल्क से बिल जमा करवाने के लिए मजबूर है। अधिकारियों को कई बार अवगत करवाया लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई।
- टीकमाराम लेघा, गांधीनगर।

2 साल में एक बार भी नहीं दिया बिल

शास्त्री नगर स्थित जटियों के नए वास में पांच से छह साल बाद भी पानी के बिल नहीं दिए जा रहे हैं। डेढ़ से दाे साल में एक बार बिल थमाए जाते हैं या कार्यालय जाकर बिल लाने पड़ते हैं। एक साथ ढाई से तीन हजार का बिल जारी किया जाता है। समय पर बिल देन के लिए भी कई बार कहा गया है।
- नरेंद्र कुमार, जटियों का नया वास

शिकायत होने पर रोकते है भुगतान
बिल वितरण का सालाना लगभग साढ़े चार लाख का टेंडर किया गया है। उपभोक्ताओं की शिकायत आने पर ठेकेदार के बिल नहीं बांटने पर प्रति बिल के हिसाब से रुपए काटे जाते हैं। बिल का समय पर भुगतान नहीं होने पर विलंब शुल्क लगाया ही जाता है। प्रत्येक उपभोक्ता को दो माह के अंतराल में सालाना छह बिल जारी किए जाते हैं। उपभोक्ताओं से मोबाइल नंबर लिए जा रहे हैं ताकि उन्हें समय पर मैसेज कर बिल की जानकारी दी जा सके।
- जयरामदास मेघवाल, एईएन जलदाय विभाग

खबरें और भी हैं...