• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • 67 Cases Came In Three Days, Infection Rate Doubled From Second Wave, Union Minister Chaudhary Corona Positive For The Second Time

डराने लगा कोरोना:तीन दिन में 67 केस आए, संक्रमण दर दूसरी लहर से दोगुनी, केंद्रीय मंत्री चौधरी दूसरी बार कोरोना पॉजिटिव

बाड़मेर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रॉयकोलोनी स्थित सरकारी स्कूल में साथ बैठकर खाना खाते बच्चे। - Dainik Bhaskar
रॉयकोलोनी स्थित सरकारी स्कूल में साथ बैठकर खाना खाते बच्चे।

कोरोना की तीसरी लहर का खतरा लगातार बढ़ रहा है। इस बीच कोरोना का खतरा उन लोगों को भी ज्यादा है, जो पूर्व में भी संक्रमित हो चुके है। दूसरी लहर में संक्रमित हुए केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी अब दूसरी बार कोरोना पॉजिटिव आए है। दिल्ली आवास पर ही रेस्ट कर रहे है। कोरोना पॉजिटिव आने के बाद केंद्रीय मंत्री ने ट्वीट करके संक्रमित आने की जानकारी दी है। बाड़मेर में दिसंबर तक शांत रहा कोरोना एक बार फिर से भड़क गया है। जनवरी के महज दिन में ही 67 कोरोना संक्रमित केस आए है।

जिसमें शुक्रवार को 30 कोरोना पॉजिटिव आए। दूसरी लहर की तर्ज पर संक्रमण बढ़ने की रफ्तार है। अप्रैल 2020 में दूसरी लहर ने दस्तक दी थी। इसके बाद अप्रैल, मई और जून तक दूसरी लहर में 10356 कोरोना पॉजिटिव केस आए थे, जिसमें 164 लोगों की मौत हुई, जबकि 500 से ज्यादा एचआरसीटी पॉजिटिव लोगों ने जान गंवाई।

बढ़ते संक्रमण के बीच राज्य सरकार ने जोधपुर व जयपुर में स्कूलें बंद है। वहीं शेष जिलों में कलेक्टरों को संक्रमण के खतरे के अनुसार निर्णय करने को बोला है। चितौड़गढ़, बीकानेर, उदयपुर, बीकानेर व सवाई माधोपुर में कलेक्टरों ने कक्षा 1 से 8 वीं तक की शहरी सीमा की स्कूलों में छुट्टी कर दी है। बच्चों में संक्रमण का खतरा ज्यादा होने से परिजन भी चिंतित है।

संक्रमण की रफ्तार दुगुनी; दूसरी लहर के 7 दिनों में 78 केस आए थे, तीसरी लहर के 3 दिनों में 67 रोगी आए

दूसरी लहर से संक्रमण का खतरा दो गुना अधिक इस बार चार माह पहले आने लगे पॉजिटिव केस

बाड़मेर में कोरोना संक्रमण का खतरा दूसरी लहर से भी ज्यादा है। तीसरी लहर में संक्रमण के फैलने की दूसरी लहर से दुगुनी है। अप्रैल 2020 में दूसरी लहर ने दस्तक दी थी। 1 से 7 अप्रैल तक तब 78 संक्रमित आए थे और एक मौत हुई थी। जबकि इस बार तीसरी लहर ने जनवरी में दस्तक दी है। 5 जनवरी को 17 केस के साथ कोरोना का विस्फोट हुआ है। अब तक के 3 दिनों 67 कोरोना पॉजिटिव केस आए है। दूसरी लहर के अप्रैल, मई व जून 2020 में 10356 संक्रमित आए थे, जिसमें 164 की मौत हो गई। जबकि एचआरसीटी पॉजिटिव मरीजों की मौत का आंकड़ा 500 से भी पार था।

पहली लहर: 8 अप्रैल 2020 को बाड़मेर में कोरोना के पहले मरीज ने दस्तक दी थी। करीब 8 माह तक चली पहली लहर में 124762 सैंपल लिए, जिसमें 5609 संक्रमित आए। 85 लोगों की कोरोना से मौत हुई।​​​​​​​

दूसरी लहर: अप्रैल 2021 में दस्तक दी। अप्रैल, मई, जून तक तीन माह में 128146 सैंपल लिए गए। जिसमें 10356 संक्रमित आए। 164 लोगों की कोरोना से मौत हो गई। एचआसीटी संक्रमण से मौत भी 500 के पार रही।​​​​​​​

कोरोना की दो लहर झेली, अब तीसरी खतरनाक​​​​​​​
कोरोनाकाल को करीब दो साल होने वाले है, लेकिन आमजन का कोरोना पीछा नहीं छोड़ रहा है। पिछले 6 माह से कोरोना के केस घटने से लोगों को उम्मीद जगी थी कि अब कोरोना की तीसरी लहर की संभावना कम है। इस बीच नए साल के साथ ही कोरोना भड़क गया और बाड़मेर में 5 जनवरी से अब तक के तीन दिन में ही 67 कोरोना रोगी आए है।

कोरोना की यह रफ्तार पहली व दूसरी लहर से भी खतरनाक है, क्योंकि दोनों लहर में संक्रमण के बढ़ने की शुरूआती रफ्तार इतनी खतरनाक नहीं थी। संक्रमण की पॉजिटिव रेट 4.79 प्रतिशत है। शुक्रवार को 626 सैंपल लिए गए, जिसमें 30 संक्रमित आए है। एक्टिव केस का आंकड़ा अब 76 हो गया है।​​​​​​​

रिकाॅर्ड: सिर्फ 4 दिन में जिले के 25% बच्चों ने लगा ली वैक्सीन
देश में 3 जनवरी से 15 से 17 वर्ष के बच्चों को कोविड टीका लगाना शुरू किया गया है। बाड़मेर में महज 4 दिन में 25% बच्चों ने टीके लगा लिए है। बाड़मेर जिले में 15 से 17 वर्ष के 1.87 लाख बच्चे है। इनमें 45755 बच्चों ने टीके लगा लिए है। बच्चों में टीकाकरण के प्रति जबरदस्त उत्साह देखा जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीमें भी स्कूलों में कैंप लगाकर टीकाकरण करवा रही है।

भास्कर पड़ताल: प्रदेश के 7 जिलों में स्कूल बंद, बाड़मेर की स्कूलों में साथ में खाना खा रहे बच्चे
कोरोना के बढ़ते संकट के बीच भास्कर टीम ने शुक्रवार को सरकारी स्कूलों को देखा ताे सामने आया कि स्कूलों में सरकारी गाइडलाइन की धज्जियां उड़ रही है। क्लास में न तो 50 फीसदी बच्चों के बैठने का मापदंड पूरा किया जा रहा है और न ही सोशल डिस्टेसिंग और मास्क का ध्यान रखा जा रहा है। रॉय कॉलोनी रोड स्थित सरकारी स्कूल में बच्चे क्लास रूम में ही एक-दूसरे के साथ टिफिन का खाना खाते नजर आए।

इसके अलावा मास्क और सोशल डिस्टेसिंग भी नहीं थी। ऐसे ही हाल अन्य स्कूलों के भी थे। प्रदेश के जोधपुर व जयपुर में सरकार ने स्कूलें बंद कर दी है। वहीं चितौड़, बीकानेर, उदयपुर, सवाई माधोपुर में संक्रमण की बढ़ती दर को देखते हुए 1 से 8 तक की शहरी स्कूलों में अवकाश घोषित किया है, लेकिन बाड़मेर में तीन दिनों में जिस तरह से संक्रमण का खतरा बढ़ा है, वैसे ही परिजनों की भी चिंता बढ़ने लगी है। ऐसे में संक्रमण के खतरे के बावजूद स्कूलों में बच्चों को छुट्टी नहीं की गई है।

16 माह में केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी दूसरी बार पॉजिटिव
केंद्रीय कृ़षि एवं किसान कल्याण मंत्री कैलाश चौधरी पहली लहर के समय 8 अगस्त 2020 को पहली बार कोरोना संक्रमित हुए थे। करीब 20 दिन तक रेस्ट के बाद वो काम पर लौटे थे, हालांकि पहली लहर में भी उन्हें ज्यादा कोई तकलीफ नहीं थी। अब मंत्रालय में काम करते हुए किसी के संपर्क में आने से दूसरी बार कोरोना संक्रमित हुए है।

शुक्रवार को उन्होंने ट्वीट करके बताया कि कोरोना के लक्षण महसूस होने पर जांच करवाई, रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिस पर स्वयं को आइसोलेट कर लिया है। उनके संपर्क में आए लोग भी खुद को आइसोलेट कर लें। इसके अलावा आमजन से भी अपील की है कि संक्रमण से बचने के लिए आवश्यक सावधानी बरतें।

खबरें और भी हैं...