• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • After The Death Of The Married Woman In A Suspicious Condition, The Relatives Accused The In laws Of Murder, Used To Torture For Dowry

हत्या या आत्महत्या:विवाहिता की संदिग्ध अवस्था में मौत के बाद परिजनों ने ससुराल वालों पर लगाया हत्या का आरोप, दहेज के लिए करते थे प्रताड़ित

बाड़मेर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोर्चरी के बाहर बैठे परिजन। - Dainik Bhaskar
मोर्चरी के बाहर बैठे परिजन।

बाड़मेर जिले के गेहूं गांव में सोमवार की रात्रि को विवाहिता की संदिग्ध अवस्था में मौत के बाद परिजनों ने ससुराल वालों पर दहेज प्रताड़ना और आत्महत्या का मामला दर्ज करवाया है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। पीहर पक्ष का आरोप है कि विवाहिता ने आत्महत्या नही की, बल्कि उसे मारपीट कर मार डाला है। विवाहिता का शव मोर्चरी में है, फिलहाल परिजन मोर्चरी के आगे धरने पर बैठ गए हैं।

पति, सास व देवर पर आरोप

जानकारी के मुताबिक सोमवार रात्रि को विवाहिता चन्द्रा की संदिग्ध अवस्था में मौत हो गई। पीहर पक्ष को सूचना मिलने पर जिला अस्पताल पहुंचे, चन्द्रा का शव जिला मोर्चरी में रखवाया हुआ था। पीहर पक्ष का आरोप है कि चन्द्रा की शादी के बाद से ससुराल में विवाहिता चन्द्रा का पति नवरता, सासु कानीदेवी, देवर मांगीलाल दहेज के लिए परेशान करते और मारपीट करते थे। समाज के लोगों ने दो-तीन बार ससुराल वालों से समझाने के बाद चन्द्रा को ससुराल में भेजा था।

पीहर पक्ष का आरोप है कि सोमवार को देर रात ससुराल वालों का फोन आया कि चन्द्रा की तबीयत खराब हो गई अस्पताल आ जाओ, अस्पताल आने पर चन्द्रा का अस्पताल में न होकर इसका शव मोर्चरी में था। पीहर पक्ष का आरोप है कि चन्द्रा आत्महत्या नहीं कर सकती, ससुराल वालों ने मारपीट कर मारा है। मंगलवार को सुबह महिला थाने में रिपोर्ट देकर कानूनी कार्रवाई की मांग की है।

पुलिस ने बताया कि बाड़मेर गंगाई निवासी सवाईलाल पुत्र भाखराराम ने रिपोर्ट पेश की है कि उनकी पुत्री का विवाह दस वर्ष पूर्व गेहू निवासी नवरता पुत्र पारसा का साथ हुआ था। पुत्री चंद्रा के संसुराल वाले समय-समय पर दहेज और मोटरसाइकिल की मांग पर प्रताड़ित कर रहे थे। करीब तीन वर्ष पूर्व भी पीहर पक्ष व सुसराल के बीच पंचायत होने की बात सामने आई है। ससुराल वालों का कहना है कि चन्द्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है, लेकिन पीहर पक्ष ने संदेह जाहिर किया। यह मामला आत्महत्या या कथित तौर पर हत्या से संबंधित होने और ससुराल वालों के ऊपर आरोप होने के कारण आईपीसी की धारा 498 व 406 में दर्ज किया गया है। मामला दर्ज कर प्रकरण महिला सेल को भेज दिया गया है।

खबरें और भी हैं...