• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • After The Selection In Rajasthan Women's Cricket 19, The Cricketer Anisa Reached Her Village For The First Time; Those Who Work Hard Never Give Up

क्रिक्रेटर अनीसा पहुंची बाड़मेर:राजस्थान महिला क्रिकेट 19 में चयन के बाद पहली बार पहुंची अपने गांव पहुंची क्रिकेटर अनीसा; बोलीं- मेहनत करने वालो की कभी हार नहीं होती

बाड़मेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गांव पहुंचने पर अनीसा का स्वाग - Dainik Bhaskar
गांव पहुंचने पर अनीसा का स्वाग

बाड़मेर जिले के कानासर गांव की अनीसा राजस्थान महिला क्रिकेट 19 टीम में चयन होने के बाद पहली बार अपने गांव पहुंची। गांव पहुंचने पर अनीसा का जोरदार तरीके से स्वागत किया गया। अनीसा ने अपने ट्रायल और चैलेंजर ट्राफी मैच शानदार प्रदर्शन के दम पर राजस्थान की क्रिकेट 19 टीमें चयन हुआ था।

दरअसल, गांव की सरकारी स्कूल में पढ़ाई के दौरान वर्ष 2013 में अनीसा ने टीवी पर क्रिकेट मैच देखने के दौरान मन में ख्याल आया कि क्या मैं क्रिकेटर बन सकती हूं तब अनीसा स्कूल से वापस घर आने के बाद बकरियां चराते-चराते क्रिकेट खेलती थी। गांव के बच्चे क्रिकेट नहीं खेलते थे अनीसा अपने भाई बहन के साथ क्रिकेट खेलती थी। इस दौरान रोशन खान ने मोटिवेट करते हुए कहा, तुम्हारे अंदर क्रिकेट का जूनून है, तुम अच्छी खिलाड़ी बन सकती हो। कई सालों की मेहनत के बाद अनीसा का राजस्थान महिला क्रिकेट टीम में चयन हुआ।

स्कूल में क्रिकेटर अनीसा का स्वागत कर किया सम्मान।
स्कूल में क्रिकेटर अनीसा का स्वागत कर किया सम्मान।

जयपुर से बुधवार को अपने घर पहुंचने पर अनीसा का जोरदार स्वागत किया गया। कानासर गांव की सरकारी हायर सैंकडरी स्कूल में साफा व माला पहनाकर स्वागत किया। अनीसा के साथ पढ़ने वाली स्टूडेंट्स ने भी बधाई दी। अनीसा और उसके पिता याकूब खान, माता मरवी, ताऊ हाजी खान का भी सम्मान किया गया।

अनीसा गुजरात में क्रिकेट प्रतियोगता के बाद जयपुर गई उसके बाद जयपुर से अपने गांव कानासर पहुंची है। अनीसा ने कहा युवाओं को अपनी मंजिल तय करके उसको प्राप्त करने के लिए लग जाना चाहिए। मेहनत करने वालों की कभी हार नहीं होती है।

सरपंच प्रतिनिधि चेना राम परिहार ने कहा हमारी बेटीयां बेटों से कम नहीं। अनीसा ने पूरे जिले का नाम रोशन किया है। लड़कियों को अनीसा से प्रेरणा लेनी चाहिए। इस अवसर पर कवराराम, सजय, न्याली, साईदाद, वली, लतीफ खान, शकुर खान, सादी खान, हनुमान, गुले खान ग्रामीण एव खेल प्रेमी मोजूद थे।

खबरें और भी हैं...