पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना अपडेट:जिला अस्पताल के सभी 376 बेड फुल, 302 नए पॉजिटिव, एक दिन में 7 कोरोना रोगियों ने तोड़ा दम

बाड़मेर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

कोरोना संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ने से जिला अस्पताल की व्यवस्थाएं भी जवाब देने लगी है। रविवार को अस्पताल के सभी 376 बेड फुल हो गए। यानी सोमवार को बेड नहीं बढ़ाए गए तो कोरोना रोगियों को भर्ती करना मुश्किल है। जिला अस्पताल के सभी वार्ड फुल होने के कारण अब कोरोना के गंभीर रोगियों को इमरजेंसी वार्ड में भर्ती करने की नौबत आ गई है।

पीएमओ डॉ.बीएल मंसुरिया ने भी बेड नहीं होने से नए मरीजों को भर्ती करने से इंकार कर दिया है। ऑक्सीजन की डिमांड भी बढ़कर 1000 सिलेंडर तक पहुंच गई है। रविवार को जिले में 302 नए रोगी आए और 7 कोरोना मरीजों की मौतें हुई।

रविवार काे बाड़मेर जिले में 2352 सैंपल की जांच में 302 नए पॉजिटिव आए। 7 मरीज कोरोना से जंग हार गए। एक्टिव मरीजों का आंकड़ा बढ़ कर 2770 पहुंच गया है। एचआरसीटी जांच में संक्रमित आए राेगियाें में जिला अस्पताल बाड़मेर में 324 और बालाेतरा में 53 राेगी भर्ती है। हाेम आईसालेशन में 2211 रोगी घर पर ही इलाज ले रहे हैं। जिले में अब रोजाना 1000 ऑक्सीजन सिलेंडर की खपत है।

चुनौती: इमरजेंसी में भर्ती कर रहे मरीज, 2 घंटे बाद वार्ड में बेड खाली होने पर शिफ्ट कर रहे

जिले के सबसे बड़े अस्पताल में कोरोना रोगियों को भर्ती करने की चुनौती खड़ी हो गई है। अस्पताल के 376 बेड फुल हो गए हैं। जिला अस्पताल के पीएमओ ने भी अब नए मरीजों को भर्ती करने से हाथ खड़े कर दिए है। उन्होंने कहा कि अब नए मरीजों के लिए अस्पताल में जगह नहीं है। बहुत ही गंभीर स्थिति वाले मरीजों को इमरजेंसी में रख रहे हैं।

हर दो घंटे में वार्डों में ठीक होने वाले मरीजों का फीडबैक ले रहे हैं, अगर कोई बेड खाली हो रहा है तो वहां भर्ती कर रहे हैं। एडीएम ओपी विश्नोई ने बताया कि अस्पताल फुल है, हम प्रयास कर रहे हैं कि कन्या कॉलेज को अस्पताल बनाए। इसके लिए बेड लगाए जा रहे हैं। जिला अस्पताल में फिलहाल इमरजेंसी में मरीजों को भर्ती कर रही है। इमरजेंसी के बाहर हालात सामान्य है, वेटिंग जैसी स्थिति नहीं है। बेड खाली होने पर ही मिल रहे है।अब रोजाना 1050 ऑक्सीजन सिलेंडर की डिमांड,350 निजी

प्लांट से खरीद रहे

एडीएम ओपी विश्नोई ने बताया कि बाड़मेर जिले में संक्रमण की चपेट में आए लोगों को ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ गई है। जिले में अब रोज 1050 सिलेंडर ऑक्सीजन की जरूरत है। 350 सिलेंडर गुलजग ऑक्सीजन प्लांट से लिए जा रहे हैं। जबकि जिला अस्पताल के प्लांट से 90 की जगह 60-70 और बालोतरा के ऑक्सीजन प्लांट से 40 की जगह 30 सिलेंडर ऑक्सीजन का उत्पादन हो रहा है।

पचपदरा के एमडी प्लांट से लिक्विड ऑक्सीजन ले रहे है। जिसे जिला व नाहटा दोनों अस्पतालों को सप्लाई कर रहे है। फिलहाल जिले को ऑक्सीजन पर्याप्त मिल रहा है।

धीमी रफ्तार, 18 प्लस को अगले कुछ दिन तक वैक्सीन संभव नहीं: सीएमएचओ

बाड़मेर जिले में वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी हो गई है। 45 प्लस के लोगों को भी वैक्सीन नहीं लग पा रही है। जिले में 5 हजार को वैक्सीन की खेप एक दिन पूर्व ही मिली है, लेकिन पिछले दो-तीन दिनों से सिर्फ 1000-1500 वैक्सीन ही लग पा रही है। सीएमएचओ डॉ. बीएल विश्नोई का कहना है कि लोग वैक्सीन लगाने के लिए नहीं पहुंच रहे है।

जिले में वैक्सीन पर्याप्त उपलब्ध है। फिलहाल 45 प्लस की उम्र वाले लोगों को ही वैक्सीन लगा रहे है। 18 प्लस के लोगों को फिलहाल वैक्सीन लगाना संभव नहीं है, सरकार की ओर गाइडलाइन जारी होने के बाद ही लगाई जाएगी।

जिस घर में चार पाॅजिटिव फिर भी हो रहा था मृत्युभोज

कोरोना महामारी के बीच सरकार की ओर से सख्ती के बावजूद भी लोग लापरवाही की हदें पार कर रहे है। धोरीमन्ना के खरड गांव में एक परिवार की ओर से मृत्युभोज किया जाकर भीड़ इकट्ठा करने पर तहसीलदार ने धोरीमन्ना थाने में मामला दर्ज करवाया है। तहसीलदार भागीरथराम विश्नोई ने पुलिस थाना धोरीमन्ना में मामला दर्ज करवाया कि घमंडाराम पुत्र खीयाराम विश्नोई निवासी खरड की ओर से उनकी पत्नी सुगणी के स्वर्गवास होने पर मृत्युभोज आयोजन किया जा रहा था।

कोविड महामारी के बावजूद काफी संख्या में भीड़ इकट्ठा हो रखी थी। सूचना पर थानाधिकारी धोरीमन्ना मय तहसीलदार की टीम मौके पर पहुंची तो लोगों की भीड़ मौके से भाग गई। बाहर व आंगन में टेंट लगे हुए थे। गौरतलब है कि जिस घर में चार पॉजिटिव आए थे उसी घर पर मृत्युभोज हो रहा था।धारा 188 सीआरपीसी का उल्लंघन करना व महामारी अधिनियम 2020 का आपराधिक कार्य होने पाए जाने पर मामला दर्ज किया गया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें