पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऑक्सीजन फ्लाे कंट्रोल:एनेस्थेसिया के डॉक्टरों ने किया ऑक्सीजन फ्लाे कंट्राेल; खपत 800 से 670 तक पहुंची, 5 डॉक्टरों सहित 77 कर्मचारी तैनात

बाड़मेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर, ऑक्सीजन फ्लाे कंट्राेल सिस्टम की जानकारी देती डाॅक्टर। - Dainik Bhaskar
बाड़मेर, ऑक्सीजन फ्लाे कंट्राेल सिस्टम की जानकारी देती डाॅक्टर।

जिला अस्पताल के एनेस्थेसिया डॉक्टरों की टीम ने अस्पताल में मरीजों तक ऑक्सीजन की पर्याप्त सप्लाई पहुंचाने तथा उसे व्यर्थ हाेने से बचाने के लिए ऑक्सीजन फ्लाे कंट्रोल सिस्टम की व्यवस्था काे सुचारू रूप से लागू कर दिया है। काेराेना कहर के दाैरान अस्पताल में काेविड राेगियाें के लिए आईसीयू सहित 18 वार्डों में 375 बेड की व्यवस्था की गई है। इनमें आधे से अधिक बेड पर सीधे ऑक्सीजन पाइप लाइन से सप्लाई दी जा रही है।

वहीं अन्य बेड के लिए सिलेंडरों की व्यवस्था कर रखी है। मरीज के परिजन सिलेंडरों से छेड़छाड़ के दाैरान प्रति मिनट ऑक्सीजन की खपत 20 से 25 लीटर की कर देते हैं। ऐसे में एनेस्थेसिया टीम ने ड्यूटी डाॅक्टरों सहित नर्सिंग स्टाफ काे ऑक्सीजन फ्लाे सिस्टम काे सही करने तथा पर्याप्त मात्र में ऑक्सीजन सप्लाई देने में जुटे है। इस सिस्टम कोे लागू करने के बाद गुरुवार को खपत 670 हुई। इससे पहले अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडरों की खपत 800 से 1000 तक पहुंच चुकी थी।

व्यवस्था संभालने में पांच डॉक्टरों समेत 77 कर्मचारी जुटे हैं। ऑक्सीजन मैनेजमेंट के लिए एनेस्थेसिया विभागाध्यक्ष डाॅ. मदनलाल शारदा काे चेयरमैन बनाया गया है। नाेडल अधिकारी एनेस्थेसिया असिस्टेंट प्राेफेसर डाॅ. महेंद्र चौधरी अस्पताल के ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट सहित वार्डों में सिलेंडरों की सप्लाई का काम देख रहे हैं। प्लांट पर राउंड दी क्लाॅक तीन फिजियोथेरेपिस्ट डॉक्टरों काे लगाया गया है, जाे ऑक्सीजन की आपूर्ति प्रत्येक बेड तक करवाने की व्यवस्था संभाले हैं।

अस्पताल में ऑक्सीजन की आपूर्ति की सारी मॉनिटरिंग एडीएम ओपी विश्नाेई काे की जा रही है। वहीं जेल प्रशासन की ओर से ओपन जेल की दाे महिलाओं सहित 10 बंदी व दाे महिलाओं सहित तीन कैदियों के परिजन भी अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर सप्लाई का कार्य कर रहे हैं।

कोरोना संक्रमितों तक ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था में 77 कर्मचारी दे रहे हैं अपनी सेवाएं

उपनिदेशक सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग पुखराज सारण काे जिला प्रशासन की ओर से प्रभारी नियुक्त किया गया है। शिक्षा विभाग की ओर से चार शिक्षक भागीरथ शर्मा, देवीलाल, प्रेमसिंह इंदा व पन्नाराम काे लगाया गया है। मेडिकल काॅलेज से लेब असिस्टेंट लाेकेंद्र शर्मा, फार्मासिस्ट सुमेंद्र शर्मा व जितेंद्र चाैबसिया, मेडिकल साेशल वर्कर भंवरलाल तथा ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट के लिए चार ऑपरेटर व पांच हैल्पर लगाए हुए हैं।

इन सभी की मॉनिटरिंग के लिए अस्पताल की ओर से तीन फिजियोथेरेपिस्ट डाॅ. हिम्मत देथा, डाॅ. प्रशांत कुमार साक्यावार, डाॅ. रमेश गहलाेत की ड्यूटी राउंड दी क्लाॅक लगाई गई है। केयर्न वेदांता की ओर से 20 व सिविल डिफेंस के 21 सह सेवक ड्यूटी पर तैनात किए गए है। जेलर राजेश डऊकिया ने बताया कि ओपन जेल के 10 बंदी ठेकेदार के मार्फत अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडरों की सप्लाई का कार्य कर रहे हैं। इनमें 2 महिलाओं सहित 10 बंदी तथा बंदियों के तीन परिजनों में दाे महिलाएं भी शामिल है।

रनिंग फंक्सनल प्लांट व सिलेंडरों से ऑक्सीजन सप्लाई मरीजों काे पर्याप्त मिल सके और वह व्यर्थ न हाे इसके लिए एनेस्थेसिया टीम की ओर से ऑक्सीजन फ्लाे कंट्रोल किया गया है। मरीज के परिजन ही सिलेंडर काे खाेल देते थे। ऐसे में प्रति मिनट 20 से 25 लीटर ऑक्सीजन की सप्लाई हाे रही थी। मरीज की आवश्यकता के अनुसार ऑक्सीजन देने के लिए राउंड दी क्लाॅक डॉक्टरों की टीम लगी हुई है। जेनरेशन प्लांट के अलावा बुधवार सुबह आठ बजे तक ऑक्सीजन की खपत 670 सिलेंडर की रही। अस्पताल में कुल 1072 सिलेंडर की व्यवस्था है।- डाॅ. महेंद्र चौधरी, असिस्टेंट प्रोफेसर, एनेस्थेसियाए

वार्ड प्रभारियों से समय-समय पर संपर्क कर ऑक्सीजन की सप्लाई व सिलेंडरों के बारे में जानकारी ली जा रही है। सभी बेड पर ऑक्सीजन की सप्लाई पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध करवाई जा रही है। काेराेना ने भयावह रूप ले रखा है। लाेगाें काे दिन में तीन से चार बार भाप लेनी चाहिए। वहीं आधे घंटे तक व्यायाम करना उचित है।- डाॅ. हिम्मतदान देथा, भाैतिक चिकित्सक विशेषज्ञ।

खबरें और भी हैं...