पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • Barmer Polytechnic Student Made 12 Thousand Rupees Battery Operated E cycle, After Charging It Can Run 25 Km, 20 Paise Per Km Will Be Spent

दोस्तों ने घर पर बना दी ई-साइकिल:चार्ज करने के बाद 25 किलोमीटर तक चलेगी, 20 पैसे प्रति किमी आएगा खर्च; 14 स्टूडेंट ने पॉकेट मनी से की तैयार

बाड़मेर3 दिन पहले
स्टूडेंट ने तैयार की ई-साइकिल।

बाड़मेर पॉलिटेक्निक कॉलेज में लास्ट ईयर में पढ़ने वाले 14 स्टूडेंट ने अपनी पॉकेट मनी से ई-साइकिल तैयार की है। स्टूडेंट जेठाराम गोदारा ने बताया कि हम 14 स्टूडेंट ने इस ई-साइकिल को बनाने से पहले एक महीने तक रिसर्च किया। ई-साइकिल में दो बैटरी लगाई गई हैं। एक मोटर भी लगाई गई है जिससे स्पीड कंट्रोल की जा सकती है। इसे बनाने में करीब 12 हजार रुपए का खर्चा आया है। स्टूडेंट ने प्लान तैयार कर कंट्रोलर मोटर का निर्माण किया। लेड एसिड बैटरी का उपयोग करके इसका निर्माण किया। सोलर सेल से इंप्रूवमेंट कर यह अनूठी साइकिल बनाई गई है।

अलग-अलग राज्यों से मंगवाया सामान

साइकिल में उपयोग आने वाली सभी सामान को अलग-अलग राज्यों से पता किया। रिसर्च के दौरान एक ई-साइकिल में 15 हजार खर्चा लगने का अनुमान लगा फिर जब साइकिल बनाई तो यह खर्चा 12 हजार रुपए पर आ गया। लेक्चरर अमृत जांगिड़ ने बताया कि डिप्लोमा करने के बाद स्टूडेंट ने स्टार्ट अप के तौर पर इस प्रोजेक्ट पर काम किया और कुछ ही दिनों में इसे बनाकर तैयार कर दिया।

महज 20 पैस प्रति किमी खर्च

महज 20 पैसे प्रति किमी. इस साइकिल का खर्च आएगा। बिना पैडल मारे इलेक्ट्रॉनिक साइकिल दौड़नी शुरू हो जाएगी। अब इसे एक बार चार्ज करने के बाद 25 किमी. तक ले जा सकेंगे। बैटरी चार्ज खत्म होने पर इसे पैंडल से भी चला सकेंगे। इसका कॉलेज में ट्रायल किया गया जो सफल हुआ है।

ईको फ्रेंडली है यह साइकिल
जेठाराम गोदारा, कासिम अली, ईश्वर सिंह और दशरथ सिंह सहित कई स्टूडेंट ने मेहनत कर बनाया है। इस साइकिल को बनाने के लिए राशि स्टूडेंट ने अपनी पॉकेट मनी से खर्च की है। इस साइकिल को बनाने में इलेक्ट्रिक एचओडी अमृतलाल जांगिड़ का भी सहयोग रहा है। उन्होंने बताया कि यह साइकिल ईको फ्रेंडली है।

12-12 वॉट की दो बैटरी, 7 घंटे में होगी चार्ज होगी, स्पीड कंट्रोल सिस्टम भी लगाया

इस इलेक्ट्रॉनिक साइकिल में 12-12 वॉट की दो बैटरी लगी हुई है। कुल 24 वॉट क्षमता है। 250 वाट की मोटर लगी हुई है। इसके साथ ही साइकिल बैठक सीट के नीचे एक कंट्रोलर लगा हुआ है। जो रेस को बढ़ाने-घटाने के साथ ही स्पीड को कंट्रोल करेगा। बैटरी को चार्ज करने के लिए 7 घंटे लगेंगे। इसके बाद 25-30 किमी. तक साइकिल बिना पैडल मारे ही चल सकेगी। जब बैटरी चार्ज खत्म हो जाए तो इसे पैडल से भी चलाया जा सकेगा।

खबरें और भी हैं...