• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • Corona Did Not Show Effect On Faith, Devotees Thronged The Temples, Shouted In The Temples, Devotees Gathered In The Garh Temple Located On The Hill

बाड़मेर में नवरात्र का पहला दिन PHOTOS:आस्था पर कोरोना का नहीं दिखा असर, उमड़े श्रद्धालु मंदिरों में गूंजे जयकारे, पहाड़ी स्थित गढ़ मंदिर में लगी मां के भक्तों की कतार

बाड़मेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर गढ़ मंदिर में लगी भक्तों की कतार। - Dainik Bhaskar
बाड़मेर गढ़ मंदिर में लगी भक्तों की कतार।

शारदीय नवरात्रा को लेकर गुरुवार को शक्ति स्थलों पर घट स्थापना की गई। इस दौरान देवी के मंदिरों में सुबह से भक्तों की भीड़ लगी रही। बाड़मेर सहित जिले भर के मंदिर माता के जयकारों से गूंज उठे। इस दोरान माता का विशेष शृंगार किया गया। कोरोना का भक्तों में कोई खास असर नहीं दिखा। मंदिरों में भक्तों की खासी भीड़ रही। बाड़मेर शहर के गढ़ मंदिर में सुबह से श्रद्धालुओं की कतारें लग गईं। इस दौरान गढ़ मंदिर की सीढ़ियों पर जोरदार भीड़ नजर आई।

वांकल माता मंदिर।
वांकल माता मंदिर।
माता के मंदिर में दर्शन करते श्रद्धालु
माता के मंदिर में दर्शन करते श्रद्धालु

बाड़मेर शहर के पहाड़ी पर स्थित गढ़ मंदिर में सुबह आरती से पहले श्रद्धालु पहुंचने शुरू हो गए थे। सुबह 7:15 पर आरती की गई। इसके बाद 12:15 बजे अभिजीत मुहूर्त में घट स्थापना की गई है। सुबह से मंदिरों में भक्तों का अना-जाना शुरू हो गया था। इस बार कोरोना का असर नवरात्रि को देखने को नहीं मिला। कोरोना पर आस्था भारी नजर आई। सुबह से गढ़ मंदिर, मेढ़ स्वर्णकार जगदंबा मंदिर, हिंगलाज मंदिर सहित विभिन्न शक्तिपीठों में भी सुबह से भीड़ लगी रही। पहले दिन सभी मंदिरों में भीड़ दिखी। इस बार नवरात्रा 8 दिन के हैं, चतुर्थी और पंचमी तिथि एक ही दिन होने से नवरात्र का एक दिन घट गया है। अष्टमी और नवमी को कन्याओं का पूजन होगा। लोग माता की आराधना कर व्रत-उपवास रखेंगे।

मंदिर में लगी लंबी कतारें।
मंदिर में लगी लंबी कतारें।

चौहटन कस्बे के वांकल माता मंदिर के अलावा वीरातरा ट्रस्ट के अंतर्गत गढ़ मंदिर, जूना वीरातरा माताजी मंदिर, वैर माता मंदिर, तोरणिया माता मंदिर, रोहिड़ा माता मंदिर, बाणमाता मंदिर, तथा भिंयड़जी की छतरी पर भी नवरात्रा की स्थापना कर पूजा-अर्चना शुरू हुई। मां के मंदिरों को विशेष फूल मालाओं से सजाया गया। वांकल धाम में नवरात्रा स्थापना पर मां के दर्शन करने दूर-दूर से सुबह से ही पैदल जत्थे व वाहनों से श्रद्धालुओं का सिलसिला जारी रहा।

गढ़ मंदिर में लगी लंबी कतारें।
गढ़ मंदिर में लगी लंबी कतारें।

इस बार नवरात्रि 8 दिन के

शारदीय नवरात्रा गुरुवार से शुरू हो गए हैं, लेकिन इस नवरात्र 8 दिन के ही होंगे। चतुर्थी व पंचमी तिथि एक ही दिन होने से नवरात्र का एक दिन घट गया है। कुछ पंचागों में तृतीय एवं चतुर्थी एक दिन होने का उल्लेख है। 14 अक्टूबर को ही इसका समापन होने से इस शुभ माना जा रहा है। दो तिथि एक दिन होने से मां कुष्मांडा और स्कंद माता की आराधना एक ही दिन होगी।

बाजारों में सजी दुकानें, चुनरी और पूजा का सामान लेती महिलाएं।
बाजारों में सजी दुकानें, चुनरी और पूजा का सामान लेती महिलाएं।
खबरें और भी हैं...