मांग:नोखा प्रकरण के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग

बाड़मेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रताप फाउंडेशन के आह्वान पर नाेखा क्षेत्र के हिमटसर गांव के पूर्व सरपंच मेघ सिंह पर राजनीतिक द्वेषपूर्ण हुए कातिलाना हमले के विरोध में शिव तहसीलदार रामसिंह भाटी को मुख्यमंत्री एवं गृह मंत्री के नाम ज्ञापन दिया गया। ज्ञापन में बताया कि बीकानेर के नोखा क्षेत्र में लगातार समाज के लोगों की राजनीतिक शह और संरक्षण से हो रही हत्याओं, जानलेवा हमलों व मादक पदार्थों की तस्करी से नोखा क्षेत्र के आमजन में भय है तथा लगातार समाज के लोगों को टारगेट करके हत्याएं की जा रही है, इससे समाज में आक्रोश व्याप्त है।

7 अक्टूबर को पूर्व सरपंच मेघ सिंह हुए हमले में अपराधियों के साथ एक पुलिस कर्मी तक शामिल था। इससे पहले भी नोखा में हुई हत्याओं में पुलिस कर्मियों की संलिप्तता पाई गई थी। इसकी एसओजी ने जांच भी की लेकिन उन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। ज्ञापन देते वक्त नरेशपाल सिंह तेजमालता, गजेन्द्र सिंह बरवाली, तेजपाल सिंह, गुरदीपसिंह राणेजी की बस्ती, जितेन्द्रसिंह बुगलाऊ इत्यादि साथ रहे।

सेड़वा, प्रताप फाउंडेशन के बैनर तले सेड़वा एसडीएम को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर नोखा में हुई घटना में निष्पक्ष जांच व कार्रवाई की मांग की है। सुरेशसिंह, गिरधरसिंह, नेपालसिंह, भीखसिंह, विक्रमसिंह, माधोसिंह, सुरेंद्रसिंह, लखसिंह, महेंद्रसिंह, राजेंद्रसिंह, अदरीम खां, रामाराम चौधरी सहित कई लोगों ने ज्ञापन सौंपकर बताया कि 7 अक्टूबर को नोखा के हिमटसर गांव के पूर्व सरपंच मेघसिंह पर जानलेवा हमलाकर मारपीट की गई।

इससे पूर्व 17 जुलाई 2020 को पारवा गांव में सरपंच का चुनाव लड़ रहे जितेंद्रसिंह की चुनावी रंजिश के कारण निर्मम हत्या की गई। इसमें बीकानेर जिले के 25 वांटेड हिस्ट्रीशीटर शामिल थे, उनमें से 14 को पुलिस ने बरी कर दिया। इसी तरह की अन्य घटनाओं का जिक्र करते हुए राजनैतिक सांठगांठ व पुलिस पर दुर्भाग्यपूर्ण कार्रवाई करने का आरोप लगाया है। ज्ञापन में मामले की निष्पक्ष जांच कर आरोपियों को कड़ी सजा दिलाने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...