पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • E shram Card Will Provide Insurance Facility Of Rs 2 Lakh, Online Registration Will Be Done For Free, Government Schemes Will Get Benefits

ई-पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन से मिलेगा फ्री इंश्योरेंस:मजदूरों का फ्री में होगा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, 2 लाख रुपए बीमा की मिलेगी सुविधा, ई-श्रम कार्ड से सरकारी योजनाओं का भी मिलेगा लाभ

बाड़मेर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ई-श्रम पोर्टल। - Dainik Bhaskar
ई-श्रम पोर्टल।

असंगठित मजदूरों को बीमा की सुविधा मिले इसके लिए मोदी सरकार ने ई-श्रम पोर्टल शुरू किया है। मजदूर सीएससी या ई-मित्र पर जाकर फ्री रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। सहायक श्रम आयुक्त रामचंद्र गढ़वीर ने बताया कि मनरेगा मजदूर, स्ट्रीट वेंडर, रिक्शा चालक, मजदूर, कुली, पल्लेदार, नाई, फल विक्रेता सहित अन्य असंगठित मजदूर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाकर विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकता है। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन होने के साथ 2 लाख रुपए का फ्री इंश्योरेंस भी होगा।

दुर्घटना या असमय मृत्यु पर मिलेगा फायदा
रामचंद्र गढ़वीर ने बताया कि यदि किसी कामगार ने इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवा दिया है और इसके बाद दुर्घटना का शिकार होता है, तो उसे मृत्यु या स्थायी रूप से विकलांग होने पर 2 लाख रुपए और आंशिक रूप से शारीरिक विकलांग होने पर 1 लाख रुपए मिलेंगे। इसके अलावा सरकार योजनाओं का भी लाभ मिलेगा। मजदूरों द्वारा रजिस्ट्रेशन के बाद विभाग की तरफ से यूनिक यूनिवर्सल अकांउट नंबर वाला ई-श्रम कार्ड जारी किया जाएगा। ई-श्रम कार्ड पर मजदूर को सरकारी योजनाओं का लाभ मिलेगा।

सीएससी पर नि:शुल्क होगा पंजीयन
गढ़वीर ने बताया कि मजदूर अपने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए बैंक पासबुक, आधार कार्ड,और मोबाईल नंबर के साथ स्वयं अपने स्तर से अथवा अपने नजदीकी नागरिक सेवा केन्द्र (सीएससी) या ई-मित्र से निःशुल्क पंजीयन करवा सकते है। मजदूर स्वयं का ऑनलाइन पंजीयन register.eshram.gov.in वेबसाइट पर कर सकते है।

गौरतलब है कि असंगठित क्षेत्र के कार्मिकों के पंजीयन के लिए श्रम एवं रोजगार मंत्रालय भारत सरकार की ओर से ई-श्रम पोर्टल का शुभारंभ 26 अगस्त को किया गया था। पोर्टल पर असंगठित श्रमिकों के बारे में जानकारी और डाटा को ट्रैक और एकत्रित करने के लिए ई-श्रम पोर्टल शुरू किया गया है। एकत्रित डेटा का उपयोग नई योजनाओं को शुरू करने, नई नीतियों बनाने के लिए किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...