भास्कर खास:कोरोना के लॉकडाउन में फेक न्यूज बड़ा मुद्दा; सिर्फ अखबार की खबरें ही प्रमाणिक

बाड़मेर2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना के लॉकडाउन में सब घरों में है। इसलिए सबसे ज्यादा सोशल मीडिया का प्रयोग हो रहा है। लेकिन इस प्लेटफाॅर्म पर सभी खबरें सही नहीं होती है। ऐसे में अखबार ही एक माध्यम है, इसमें देश-दुनिया और आपके शहर की सही और तथ्यात्मक खबरें उपलब्ध करवाता है।  आपके घर तक अखबार पहुंचाने वाले ‘भोर के प्रहरी’ समाचार वितरक इस लॉकडाउन में खुद की परवाह किए बगैर आप तक खबरें पहुंचा रहा है। इसलिए उसका सहयोग करें और उसका भुगतान समय पर करें। ताकि उसका हौसला इन विपरित परिस्थितियों में भी बढ़ा रहे। लॉक डाउन के बीच विपरित परिस्थितियों में भी समाचार पत्र वितरक सुबह सूर्य की किरण निकलने से पहले आप तक अखबार पहुंचाते हैं। यह भी कोरोना योद्धा से कम नहीं है।

खबरें और भी हैं...