पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना महामारी:पॉजिटिव के भेजे जून में पंद्रह सैंपल, 2 कप्पा वेरिएंट के मरीज

बाड़मेर17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मेडिकल काॅलेज के माइक्रो बायॅलाजी विभाग की ओर से जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए आईजीआईबी लैब दिल्ली में काेराेना पॉजिटिव मरीजों के 15 सैंपल जून में भेजे गए। इन सैंपलों में लैब की रिपोर्ट के आधार पर 2 कप्पा वेरिएंट के मरीज पाए गए है। ये दाेनाें मरीज बालाेतरा शहर के रहने वाले हैं। एक मरीज मालियों का वास तथा दूसरा वार्ड नंबर 8 का है। रिपोर्ट के आधार पर एक मरीज रामसर का अल्फा वेरिएंट का निकला।

वहीं डेल्टा वेरिएंट के 12 मरीज पाए गए है। इनमें पांच मरीज बालाेतरा क्षेत्र के है। वहीं 7 मरीज बाड़मेर के आसपास के मिले है। बाड़मेर शहर की राॅय काॅलाेनी, एमपीटी नागाणा, चवा, सरनू, बांड से एक-एक मरीज डेल्टा वेरिएंट के पाए गए है। जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए जून माह में जनवरी, फरवरी, मार्च व अप्रैल के मरीजों के सैंपल भेजे गए थे। इनमें से मार्च में आरटीपीसीआर पॉजिटिव मरीजों की रिपोर्ट आई है।

माइक्रो बाॅयलाेजी विभाग के असिस्टेंट प्राेफेसर डाॅ. माेतीलाल खत्री ने बताया कि मई माह के 15 आरटीपीसीआर मरीजों के सैंपल जुलाई में भेजे गए है, इनकी रिपोर्ट आना बाकी है। दिल्ली लैब से रिपोर्ट आने में एक से डेढ़ माह का समय लगता है।

जीनोम सिक्वेंसिंग में वायरस की मॉलिक्यूलर लेवल पर जांच कर निकल्यूटाइड निकालकर वायरस की प्रकृति का पता लगाया जाता है। काेराेना वायरस के फिलहाल डेल्टा, डेल्टा प्लस, एल्फा, गामा, ईटा व कप्पा वेरिएंट सामने आए है। इन सभी में डेल्टा वेरिएंट सबसे घातक है। इसका जिले में एक भी मरीज नहीं पाया गया है।

खबरें और भी हैं...