पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सरकार फेल भामाशाह पास:पानी मुहैया करवाने में सरकारी सिस्टम नाकाम रहा, इंद्रोई के भामाशाह ने 7 लाख से ओपनवेल खुदवा किया स्थाई समाधान

बाड़मेर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकार से समाधान की आस छोड़ चुके ग्रामीणों के लिए छाजेड़ परिवार ने अपने स्तर पर निकाला हल
  • अब पानी का संकट खत्म, दो हजार की आबादी को राहत

रामसर तहसील के इंद्रोई गांव में पेयजल की समस्या करने में जलदाय विभाग नाकाम रहा तो ग्रामीणों को निराशा हाथ लगी। पानी की जंग लड़ते थक चुके ग्रामवासियों के दर्द को गांव के सेठ परिवार ने दर्द को समझा और समाधान का बीड़ा उठाया।

ताराचंद छाजेड़ परिवार ने इंद्रोई गांव में पानी की समस्या के समाधान के लिए ओपनवेल खुदवाने के साथ एक किलोमीटर पाइप लाइन बिछाकर जीएलआर में पानी की सप्लाई शुरू करवाई। इस पर करीब सात लाख रुपए खर्च हुए। छाजेड़ परिवार ने ग्रामीणों की समस्या का समाधान कर मिसाल कायम की।

इंद्रोई गांव में पानी की सप्लाई के लिए जीएलआर बना है। बीते कई महिनों से पानी की सप्लाई नहीं हो रही थी। इस समस्या को लेकर ग्रामीणों ने कलेक्टर व जलदाय विभाग के अधिकारियों को कई बार ज्ञापन सौंपकर समाधान की मांग रखी। पुरानी पाइप लाइन होने के कारण जगह-जगह लीकेज की समस्या के कारण नियमित सप्लाई शुरू करने से विभाग ने हाथ खड़े कर दिए।

चक्कर काटने के बावजूद समाधान नहीं होने से ग्रामीणों को निराशा हाथ लगी। इस समस्या के बारे में गांव के युवा मनोहरसिंह ने भामाशाह परिवार ताराचंद छाजेड़ को बताया। जोधपुर में व्यापार से जुड़े छाजेड़ परिवार ने गांव की पानी की समस्या के समाधान की ठान ली।

कुछ दिन बाद ही दिनेश छाजेड़ गांव आए और एस्टीमेट तैयार कर ले गए। अपने स्तर पर ओपनवेल खुदवाने के का काम शुरू करवा दिया। मोटर लगाने के साथ ही जीएलआर तक एक किलोमीटर पाइप लाइन बिछाई। करीब पंद्रह दिन बाद पानी की सप्लाई शुरू हो गई। ग्रामीणों ने छाजेड़ परिवार का आभार जताया।

विभाग ने हाथ खड़े किए तो भामाशाह ने दिखाई हमदर्दी

ग्रामीण नारायणसिंह, कल्याणसिंह इंद्रोई ने बताया कि जलदाय विभाग ने पानी की समस्या के समाधान से हाथ खड़े कर दिए थे। ऐसे में ग्रामीणों को पांच सौ से सात रुपए देकर टैंकरों से प्यास बुझानी पड़ रही थी। ग्रामीणों की तकलीफ को ताराचंद छाजेड़ परिवार ने समझा और अपने स्तर पर स्थाई समाधान करने की ठान ली।

एक माह में ही ओपनवेल खुदवाने के साथ पाइप लाइन बिछाकर पानी की सप्लाई शुरू करवा दी। छाजेड़ परिवार की अनूठी पहल से ग्रामीणों को बड़ी राहत मिली। इस परिवार का अहसान ग्रामीण कभी नहीं भूलेंगे।

स्कूल की सूरत संवारी, होनहार प्रतिभाओं को प्रोत्साहन

छाजेड़ परिवार भले ही जोधपुर में रहता है, लेकिन गांव से गहरा लगाव है। पूर्व में डेढ़ लाख रुपए की लागत से सीनियर सैकंडरी स्कूल के मुख्य द्वार का निर्माण करवाया। इतना ही नहीं स्कूल में फर्नीचर, खेल सामग्री भी भेंट कर चुके हैं। आर्थिक रुप से कमजोर परिवारों के होनहारों की पढ़ाई का खर्च उठाने का बीड़ा उठा रखा है। हर साल प्रतिभाओं को प्रोत्साहन दे रहे हैं।

^गांव की माटी से परिवार का गहरा लगाव रहा है। ग्रामीणों की पानी की समस्या का किसी स्तर पर समाधान नहीं होने पर मन में पीड़ा हुई। परिवार के सदस्यों के साथ विचार-विमर्श करने के बाद ओपनवेल खुदवाने के साथ पाइप लाइन बिछाकर मीठा पानी पहुंचाने का फैसला किया। करीब सात लाख रुपए खर्च कर पेयजल समस्या का स्थाई समाधान कर दिया।
-ताराचंद छाजेड़, भामाशाह।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें