बाड़मेर में अलर्ट, 3 कोरोना एक्टिव केस:स्वास्थ्य विभाग ने बढ़ाई कोरोना सैंपलिंग, हॉस्टल्स में भी बच्चों की टेस्टिंग

बाड़मेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना के सैंपल लेता स्वास्थ कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
कोरोना के सैंपल लेता स्वास्थ कर्मचारी।

एक बार फिर से कोरोना का खतरा बढ़ता जा रहा है। कोरोना का बदलता वैरिएंट सरकार के लिए मुश्किलें खड़ी कर रहा है। कोरोना के मरीज बाड़मेर सहित पूरे राज्य में बढ़ने शुरू हो गए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने जिला मुख्यालय सहित पीएचसी व सीएचसी सेंटरों पर सैंपलिंग बढ़ा दी है। जिले में रोज़ाना 400 के आसपास सैम्पलिंग हो रही है। बाड़मेर में रविवार को 1 कोरोना मरीज मिलने के बाद अब एक्टिव केसों की संख्या 3 हो गई है।

सीएमएचओ डॉ. बाबूलाल विश्नोई के मुताबिक बाड़मेर में कोरोना को लेकर स्थितियां संतोषजनक है। जिले में एक्टिव केस 3 है। कोरोना अभी तक गया नहीं है। कभी भी वापस आ सकता है। लोगों को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। सीएमएचओ ने कहा कि कोरोना के लक्षण पाए जाने पर लोग नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र या सैंपलिंग सेंटर पहुंचकर सैंपलिंग करवाएं और नियमित रूप से मास्क पहनने के साथ सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करे। ताकि कोरोना पर काबू पाया जा सके।

हॉस्टल में प्रवेश के लिए लानी होगी रिपोर्ट

हॉस्टल में बाहर से आने वाले स्टूडेंट्स को प्रवेश से पहले कोविड जांच अनिवार्य कर दी गई है। इसलिए आरटीपीसीआर टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट के बाद ही उसे प्रवेश दिया जा रहा है। रिपोर्ट नहीं आने तक उसे क्वारैंटाइन रखने के निर्देश विभाग की ओर से दिए गए है। कोविड के सैंपल के लिए अब लाइनें भी लग रही है। शहर के किसान छात्रावास में 131 गर्ल्स स्टूडेंट्स तथा किसान बोर्डिंग में 98 स्टूडेंट्स के सैंपल लिए गए। सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

वैक्सीनेशन नहीं होने से बच्चों में खतरा ज्यादा

कोविड का बढ़ता खतरा बच्चों के लिए ज्यादा घातक माना जा रहा है। वैक्सीनेशन नहीं होने के कारण तीसरी लहर का संकट बढ़ा तो बच्चों के चपेट में आने की आशंका मेडिकल संस्थाएं जता चुकी है। वहीं, स्कूल पूरी तरह खुलने के बाद बच्चों के कोरोना की चपेट में आने का सिलसिला शुरू हो चुका है। सरकार ने इसी के चलते प्रार्थना सभाओं पर रोक लगा दी है। इससे स्कूलों में ज्यादा भीड़-भाड़ की स्थिति न बने और सोशल डिस्टेसिंग की पालना हो सके।

मार्च 2020 से अब तक बाड़मेर जिले में कोरोना के 16022 केस मिले है। इसमें 247 लोग कोरोना से अपनी जान गवां चुके है। स्वास्थ्य विभाग स्कूल, कॉलेज और संस्थागत केंद्रों में सैंपलिंग करने के साथ चिकित्सा संस्थानों को सैंपलिंग कर रही है। कोरोना के नए वैरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर लोगों में भय व्याप्त है। ऐसे में सीएमएचओ डॉ. बाबूलाल विश्नोई ने जिले के लोगों से कोविड अनुरूप व्यवहार अपनाने की अपील की है।