पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तस्करी अनलॉक:पांचला में तारबंदी के ऊपर से 3-4 जुलाई की रात में फेंकी 30 करोड़ की हेरोइन, 22 लाख में पंजाब पहुंचाने की डील

बाड़मेर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर. यह तस्वीर गूगल अर्थ मैप से ली गई है। पांचला के उसी बॉर्डर की है, जहां से पाक तस्करों ने भारत में हेरोइन फेंकी थी। तारबंदी रेत से अटी होने के कारण तस्करों ने इसी जगह को चुना था। - Dainik Bhaskar
बाड़मेर. यह तस्वीर गूगल अर्थ मैप से ली गई है। पांचला के उसी बॉर्डर की है, जहां से पाक तस्करों ने भारत में हेरोइन फेंकी थी। तारबंदी रेत से अटी होने के कारण तस्करों ने इसी जगह को चुना था।
  • भास्कर पड़ताल- बीएसएफ जवानों को आंधी में चकमा देकर बॉर्डर से पार करवाई हेरोइन
  • फरवरी में 7 किलो हेरोइन बरामदगी के बाद एटीएस को बड़ी खेप पहुंचने का संदेह था

अन्तरराष्ट्रीय बॉर्डर पार पाकिस्तान से इसी साल के सिर्फ 5 माह में दूसरी बार हेरोइन तस्करी की बड़ी खेप भारत में पहुंची, लेकिन एटीएस और एसओजी की निगरानी से इसे भी नेस्तनाबूद कर दिया। 3-4 जुलाई की रात तेज धूल भरी आंधी का फायदा उठाते हुए पाक तस्करों ने बॉर्डर तारबंदी के ऊपर से पांचला इलाके में हेरोइन के एक नहीं बल्कि 22 पैकेट फेंके थे।

भारत की सीमा में तारबंदी के निकट ही रहने वाले पांचला निवासी देरावरसिंह से इसकी पहले से ही डील तय थी। जैसे ही हेरोइन भारत में फेंकी तो देरावरसिंह ने इसे उठाया। इसके बाद अन्य साथियाें के साथ आगे की डील के लिए दे दी।

कालूसिंह निवासी अभे का पार ने देताणी गांव में उनके एक खेत में बड़े चारे के बाड़े में इस हेरोइन की खेप को छिपा दिया था। हेरोइन किसको कब, कैसे दी जानी है इसकी पूरी मॉनिटरिंग पाक के तस्करों से हो रही थी। एक पैकेट के एक लाख रुपए के हिसाब से 22 पैकेट के 22 लाख रुपए में पंजाब तस्करों तक हेरोइन पहुंचाने की डील हुई थी। ये रकम उन्हें हेरोइन पहुंचने पर मिलने वाली थी, एटीएस ने इसको नाकाम कर दिया।

जहां रेतीले टीले वहीं से फेंकी थी 30 करोड़ की हेरोइन, आंधी में पैरों के निशान दबे, जवानों को भनक नहीं

आंधियों में रेत के टीले बदलते है स्थान उसी का फायदा उठाया

पांचला गांव बॉर्डर के बिल्कुल नजदीक स्थित है। यहां रेत के टीले होने से जहां तारबंदी है, वहां रेत स्थान बदलती रहती है। आंधियों में कई बार यहां तारबंदी रेत में दब जाती है तो कभी कुछ हिस्से से तारबंदी के नीचे से रेत भी निकल जाती है। 3-4 जुलाई की रात को तेज धूलभरी आंधी चल रही थी, इसी दौरान पाक तस्करों ने पांचला के इसी बॉर्डर से एक-एक किलो हेरोइन के 22 पैकेट तारबंदी के ऊपर से भारत में फेंक दिए। पांचला के देरावरसिंह से पहले ही पाक तस्करों से डील तय हो रखी थी। इसके बाद अभे का पार निवासी कालूसिंह, खेतसिंह व देवीसिंह से मिलकर ये हेरोइन देताणी गांव के खेत में बने चारे के बाड़े में छुपा दी थी।

पंजाब तस्करों तक पहुंचाने की 22 लाख में डील

तस्कर देरावरसिंह मूल रूप से पांचला का ही रहने वाला है। हेरोइन तस्करी की पूरी डील इस बार पाक से ही मॉनिटरिंग हो रही थी। तारबंदी से फेंकी हेरोइन भारत में पहुंचने के बाद कब और किसको डिलीवरी देनी है इसकी योजना पहले से ही तय थी। पंजाब तस्करों को ये बाड़मेर जिले के ही किसी एक स्थान पर हेरोइन की खेप डिलीवर होनी थी। इसके लिए प्रति पैकेट 1-1 लाख रुपए में सौदा तय हुआ था। 22 पैकेट के 22 लाख रुपए बॉर्डर तारबंदी से लेकर पंजाब तस्करों तक डिलीवर करवाने के लिए मिलने थे।

पांच माह से एटीएस के राडार पर था तस्कर देरावरसिंह

एटीएस की गिरफ्त में हेरोइन के आरोपी।
एटीएस की गिरफ्त में हेरोइन के आरोपी।

बिजराड़ थाना इलाके में 16 फरवरी को बरामद हुई 7 किलो हेरोइन में भी एटीएस को देरावरसिंह के तस्करी में शामिल होने के सुराग मिले थे। इसके बाद देरावरसिंह एटीएस के राडार पर था। 5 माह से एटीएस लगातार उसकी हर गतिविधि पर नजर रख रही थी। अब हेरोइन भारत में पहुंचते ही एटीएस को भनक लग गई।

इसके बाद देरावरसिंह ने हेरोइन खेप अभे का पार निवासी 3 लोगों काे दी। उन तीनों ने खेत में बाड़े में छुपा दी। एटीएस के हेरोइन खेप पकड़ने की भनक पंजाब तस्करों को लग गई। एटीएस ने 16 फरवरी को बरामद हुई 7 किलो हेरोइन में अब तक बचाया खां निवासी आंतरा, मीरे खां निवासी आरबी की गफन, हलिया खां व पंजाब तस्कर अंग्रेज सिंह को गिरफ्तार किया है।

25 साल में बॉर्डर पार पाक से आई 131 किलो हेरोइन

  • 1995: रामसर थाना ने 700 ग्राम, गडरारोड थाना 2 किलो 800 ग्राम, कोतवाली ने 3 किलो 620 ग्राम हेरोइन बरामद की।
  • 1996: गुड़ामालानी पुलिस ने 4 किलो 670 ग्राम, गिराब पुलिस ने 5 किलो 170 ग्राम हेरोइन बरामद की।
  • 2000: बाखासर पुलिस ने 17 किलो 700 ग्राम हेरोइन बरामद की।
  • 2002: बिजराड़ पुलिस ने 27 किलो 300 ग्राम हेरोइन बरामद की।
  • 2005: रामसर पुलिस ने 14 किलो 650 ग्राम हेरोइन बरामद की।
  • 2009: बाखासर पुलिस ने 15 किलो हेरोइन बरामद की।
  • 2015: बिजराड़ पुलिस ने 1 किलो 760 ग्राम एवं 1 किलो 123 ग्राम हेरोइन पकड़ी।
  • 2017: सदर पुलिस ने 4 किलो 440 ग्राम एवं पचपदरा पुलिस ने 650 ग्राम हेरोइन बरामद की थी।
  • 2019: सेड़वा थाना पुलिस ने 2 किलो 740 ग्राम हेरोइन बरामद की।
  • 2021: फरवरी में बिजराड़ थाना क्षेत्र में बॉर्डर पार से आई 7 किलो हेरोइन एटीएस ने बरामद की।
  • 2021: जुलाई में गिराब थाना क्षेत्र में 22 किलो हेरोइन एटीएस ने बरामद की।