कोहरा में लिपटी रही सुबह, हैडलाइट जलाकर गाड़ियां चलीं:सुबह से रुक-रुक कर हुई बारिश से बढ़ी ठंड, ग्रामीण इलाकों में विजीबिलिटी बेहद कम रही

बाड़मेर5 महीने पहले
ग्रामीण इलाके में घने कोहरे से

बाड़मेर जिले में मौसम बदलता जा रहा है। शुक्रवार को जिले में घना कोहरा छाया रहा। सुबह से आसमान में घने बादल और कोहरा होने से सड़कों पर विजिबिलिटी भी कम हो गई। इससे हाईवे पर वाहनों को आवागमन भी कम नजर आया। बाड़मेर शहर सहित ग्रामीण इलाकों में सुबह हल्की बारिश भी हुई है। शहर में रुक-रुक बूंदाबांदी का दौर चला। घने कोहरे की वजह से बालोतरा-पचपदरा के बीच अनियंत्रित होकर ट्रेलर पलट गया। हालांकि इसमें कोई हताहत नहीं हुआ।

कोहरे से विजिबिलिटी कम होने से वाहन चालकों को लाइट जलाकर गाड़ी चलानी पड़ी।
कोहरे से विजिबिलिटी कम होने से वाहन चालकों को लाइट जलाकर गाड़ी चलानी पड़ी।

दरअसल, पश्चिमी विक्षोभ के कारण बुधवार को जिले के अधिकांश गांवों में कहीं तेज तो कहीं हल्की बारिश हुई। गुड़ामालानी, गडरारोड, गिड़ा, बाड़मेर, धोरीमन्ना इलाके में काफी अच्छी बारिश हुई। गुरुवार को भी सुबह से मौसम बदला रहा, दोपहर में कुछ समय के लिए धूप खिली, लेकिन शाम होते-होते आसमान फिर बादलों से ढक गया। दिनभर 15 किमी. की रफ्तार से हवा चली। शीत लहर के कारण सर्दी फिर तेज हो गई। शुक्रवार को सुबह भी धोरीमन्ना सहित आसपास के इलाकों में बारिश हुई है।

सुबह से बूंदाबांदी

बाड़मेर सहित ग्रामीण इलाकों में शुक्रवार सुबह बूंदाबांदी शुरू हुई। सुबह स्कूल जाने वाले बच्चों को बूंदाबांदी में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। खेतों में ओस पड़ी है। शीतलहर होने के कारण आमजन की दिनचर्या प्रभावित हुई है। किसानों का कहना है कि अब तक मौसम की मार फसल पर नहीं है। असल में घना कोहरा है। लेकिन इसकी शुरूआत हुई है। यह अधिक दिनों तक रुकता है तो फसलों में नुकसान होने की आशंका है, लेकिन अब तक फसल अच्छी है। आगे पाला पड़ा तो सरसों की खेती में नुकसान होने का डर है।

विजिबिलिटी हुई कम

बाड़मेर व बालोतरा शहर में 100 मीटर से आगे कुछ भी नजर नहीं आ रहा था। वहीं, गांवों में विजिबिलिटी इससे भी आधी 50 मीटर रही। इस सीजन का यह सबसे अधिक कोहरा है। कोहरे की वजह नेशनल व स्टेट हाईवे पर वाहन ड्राइवर को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। आज वाहनों का आवागमन भी कम नजर आया।

चाय की दुकानों पर भीड़

सुबह घने कोहरे के बाद बूंदाबांदी से लोग घरों में ही बैठे रहे तो जरूरी काम से लोग बाहर निकले। वहीं सर्किल व मोहल्ले में लोग अलाव करने के साथ-साथ चाय की चुस्की लेते नजर आए। सर्द मौसम में लोग चाय व कॉफी के साथ गर्म नाश्ता करते नजर आए।