बारिश से रोहिली सड़क मार्ग टूटा:कपूरड़ी लिग्नाइट व बरसात ने किसानों की बढ़ाई मुसीबत, BLMCL से बहकर आई मुल्तानी मिट्‌टी खेतों में जमीं, फसलें हुईं तबाह

बाड़मेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रोहिली गांव में बरसाती व रासयनिक पानी से खेतों में डूबी फसलें। - Dainik Bhaskar
रोहिली गांव में बरसाती व रासयनिक पानी से खेतों में डूबी फसलें।

बाड़मेर में बीते कुछ दिनों से तेज बारिश के बाद कपूरड़ी लिग्नाइट में एकत्रित रायायनिक पानी को कच्चा नाला बनाकर खेतों में छोड़े जाने के कारण गांव रोहिली के दर्जनों किसानों की सैकड़ों बीघा भूमि में खड़ी फसल पानी के बहाव के साथ बह गई। रासायनिक पानी के साथ मुल्तानी मिट्‌टी आने से उपजाऊ मिट्‌टी पानी के साथ बहकर चली गई। इससे कृषि भूमि बंजर होने का भी खतरा मंडरा रहा है। ग्राम पंचायत रोहिली ने बाड़मेर पीडब्लूडी के एसई और BLMCL (बाड़मेर लिग्ननाइट माइंस कंपनी लिमिटेड) के प्रबंधक को पत्र लिखा है।

पानी के तेज बहाव के कारण टूटा रोहिली मार्ग
पानी के तेज बहाव के कारण टूटा रोहिली मार्ग

दरअसल, कपूरड़ी लिग्नाइट में बडे़ भू-भाग में रासायनिक पानी का भराव किया हुआ है। अब सितंबर माह में लगातार हो रही बारिश से राज वेस्ट कंपनी ने रासायनिक पानी को कच्चे नाले बनाकर बरसाती व रासायनिक पानी दोनों एक साथ रोहली नदी में छोड़ दिया है। रोहली गांव में सैकड़ों बीघा भूमि में खड़ी फसलों को तबाह कर दिया है। बरसाती व रासायनिक पानी का बहाव तेज होने के कारण रोहिली से बाड़मेर आने वाला रास्ता भी टूट गया है।

गांव के खेतों में मुल्तानी मिट्‌टी की जमी परत।
गांव के खेतों में मुल्तानी मिट्‌टी की जमी परत।

रोहली किसान जसंवत सिंह ने बताया कि कंपनी द्वारा गंदा पानी हमारे खेतों में छोड़ा जा रहा है। हमारी फसलें चौपट हो रही है। कई बार कंपनी के अधिकारियों से बात भी हुई, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई है। वहीं बरसाती पानी व माइंस के पानी ने मिलकर रोहिली जाने वाली सड़क को तोड़कर कवास की ओर बढ़ता नजर आ रहा है। बुधवार को एक से दो फीट पानी चल रहा था।

सरपंच ने लिखा पत्र पीडब्लूडी एवं BLMCL को पत्र
ग्राम पंचायत रोहिली की सरपंच प्रमीला कुमावत ने बाड़मेर पीडब्लूडी के एसई को पत्र लिखा है कि रोहिली नदी के तेज बहाव के कारण रोहिली से बाड़मेर, रोहिली से चानिया मुसलमानों की ढाणी, रोहली से देशालाणी कुंहारों की ढाणी और रोहिली से जाटों की ढाणी जाने वाली, रोहिली नाडी से भाडखा जाने वाली सभी डामर सड़कें टूट गईं, रोहिली का जिला मुख्यालय से संपर्क टूट गया और आवागमन पूर्णतया बंद हो गया है।

BLMCL(बाड़मेर लिग्ननाइट माइंस कंपनी लिमिटेड) के प्रबंधक को लिखे पत्र के मुताबिक कपूरड़ी लिग्नाइट से पानी के बहाव के साथ मुल्तानी मिट्‌टी रोहिली, कपूरड़ी, लाखेटाली एवं मूंढो की ढाणी तक पहुंच रही है। इससे इन गांवों में किसानों के खेतों में मुल्तानी मिट्‌टी की परत जमा हो गई है। इससे सैकड़ों किसानों की खड़ी फसल खराब हो गई है। कंपनी के सर्वे टीम को भेजकर ग्रामीणों एवं किसानों की मौजूदगी में वेस्ट मेटेरियल मिट्‌टी से किसानों को हुए नुकसान का आंकलन कर मुआवजा दिलाया जाय।

खबरें और भी हैं...