पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सिस्टम की शॉकिंग इंजीनियरिंग:एमबीएम अब तक विश्वविद्यालय बना ही नहीं और बाड़मेर इंजीनियरिंग कॉलेज को इसके अधीन कर दिया

बाड़मेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • संबद्धता कोटा टेक्निकल यूनिवर्सिटी से हटाने से कॉलेज भी त्रिशंकु बना

राज्य सरकार ने एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज को जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय से अलग कर नया विश्वविद्यालय बनाने का निर्णय लिया था। राज्य के उच्च शिक्षामंत्री भंवरसिंह भाटी ने विधानसभा में 2 मार्च को इसका एक्ट प्रस्तुत भी कर दिया था। इसे अनुमोदन के लिए विधानसभा में चर्चा के लिए रखा जाना था, लेकिन कोविड संक्रमण फैलने से इसका निर्णय नहीं हो सका।

दूसरी ओर राज्य सरकार ने निर्णय लेकर बाड़मेर के इंजीनियरिंग कॉलेज को एमबीएम विश्वविद्यालय के अधीन कर दिया। स्थिति यह है कि एमबीएम विश्वविद्यालय अभी तक बना ही नहीं अाैर कॉलेज काे उसके अधीन कर दिया गया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वर्ष 2019-20 के बजट में एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज को प्रमोट करने की घोषणा की थी।

इसके बाद यह तय किया गया कि एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज को विश्वविद्यालय बनाया जाएगा। इस पर उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग की ओर से पूरी तैयारी की गई तथा इसका नया एक्ट तैयार करवाकर उच्च शिक्षामंत्री को सुपुर्द किया गया। उच्च शिक्षामंत्री भंवरसिंह भाटी ने इस एक्ट को 2 मार्च को विधानसभा में प्रस्तुत भी कर दिया।

विधानसभा अध्यक्ष के निर्देश के बाद इसे अनुमाेदन के लिए विधानसभा में प्रस्तुत किया जाना था, लेकिन इसके बाद कोविड का संक्रमण फैलने लगा और विधानसभा बुलाई ही नहीं जा सकी। वहीं मार्च में ही राज्य सरकार के तकनीकी शिक्षा विभाग की ओर से एक आदेश जारी किया गया।

इसमें काेटा टेक्निकल यूनिवर्सिटी से संबद्ध बाड़मेर इंजीनियरिंग कॉलेज को एमबीएम विश्वविद्यालय के अधीन कर दिया गया। इस आदेश के बाद कॉलेज के प्रशासनिक, वित्तीय व एकेडमिक व्यवस्थाएं एमबीएम विश्वविद्यालय कॉलेज के अधीन होंगी। लेकिन जब विश्वविद्यालय का एक्ट ही एप्रुव नहीं हुआ तो कॉलेज उसके अधीन कैसे होगा?

एक्ट में अनुमोदन नहीं होने से कॉलेज को होंगी परेशानियां
एमबीएम विवि का एक्ट अनुमोदन नहीं होने की वजह से बाड़मेर इंजीनियरिंग कॉलेज की प्रवेश प्रक्रिया में परेशानी होगी। क्योंकि अब यह कॉलेज कोटा टेक्निकल यूनिवर्सिटी के संबद्ध कॉलेजों की सूची से तो हट गया और एमबीएम विश्वविद्यालय बना नहीं तो कॉलेज आखिर अब किसके अधीन कार्य करेगा।

खबरें और भी हैं...