पोर्न VIDEO अपलोड करने पर सख्ती शुरू:ATS-SOG ने बाड़मेर पुलिस को मोबाइल नंबर की जांच के लिए कहा

बाड़मेर5 महीने पहले
डेमो पिक। - Dainik Bhaskar
डेमो पिक।

राजस्थान में पोर्न देखने और अपलोड करने पर सख्ती शुरू हो गई है। ऐसा ही एक मामला बाड़मेर में सामने आया है। जहां वेब साइट पर अश्लील वीडियो अपलोड करने पर ATS-SOG ने बाड़मेर पुलिस को मोबाइल नंबर के आधार पर मामला दर्ज कर जांच करने के निर्देश दिए हैं। बालोतरा पुलिस ने चाइल्ड पोर्नोग्राफी व आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। मोबाइल नंबर के आधार पर जांच शुरू कर दी है। यह बाड़मेर में संभवत: पहला मामला होगा।

दरअसल, पोर्न साइट्स पर बच्चों के अश्लील वीडियो को रोकने के लिए पुलिस लगातार उस पर नजर बनाए हुए है। पोर्न साइट पर एक अश्लील वीडियो अपलोड होने पर राजस्थान पुलिस की साइबर सेल के जरिए उस पर नजर रखी। उस वीडियो अपलोड करने वाले के मोबाइल नंबर को ट्रेस किया। मोबाइल नंबर बाड़मेर जिले के बालोतरा शहर के होना सामने आए है। इस पर ATS-SOG के एडीजी ने पत्र लिखकर निर्देश दिए हैं कि साइट्स पर अश्लील वीडियो अपलोड हुआ है। वह संदिग्ध नंबर की लोकेशन बालोतरा शहर का होना सामने आया है।

एसपी दीपक भार्गव के मुताबिक एनसीआरबी चाइल्ड पोर्नोग्राफी या अन्य संबंधित कोई चीज दिखती है तो संबंधित राज्यों को भेजती है। एटीएस एसओजी से हमें सूचना मिली थी। इस पर मुकदमा दर्ज कर अनुसंधान कर रहे हैं। मोबाइल नंबर के आधार पर बालोतरा थाने में मामला दर्ज कर लिया है। संदिग्ध नंबरों की लोकेशन के आधार पर जांच शुरू कर दी है।

मोबाइल नंबर के आधार पर किया गया ट्रेस

एसपी के मुताबिक किसी मोबाइल नंबर से कोई अश्लील वीडियो या चीज साइट्स पर अपलोड होती है तो उसे ट्रेस करके आगे की कार्रवाई की जाती है। किसी पीड़ित या पीड़िता ने मामला दर्ज नहीं करवाया है। किसी साइट्स पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी की चीज होगी। उसे ट्रेस करते किस नंबर से वीडियो अपलोड हुआ है। इसका पता चला होगा। फिर यह नंबर को ट्रेस करके संबंधित राज्य में और फिर जिले में भेजा जाता है। नंबर के आधार पर लोकेशन ट्रेस करके वहां पर टीम भेजकर उनके मोबाइल को खंगाल कर देखा जाएगा।

पोर्न VIDEO देखा तो घर आएगी पुलिस:बच्चों से जुड़ा अश्लील कंटेंट देखने वालों पर नजर; पुलिस पहले समझाएगी, नहीं माने तो गिरफ्तारी