• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Barmer
  • Negligence} Case Of Beranadi Panchayat Of Sivana Panchayat Samiti, Embezzlement Was Revealed In The Investigation Report

13.80 लाख का घोटाला, छह माह बाद वसूली नहीं:लापरवाही }सिवाना पंचायत समिति की बेरानाडी पंचायत का मामला, जांच रिपोर्ट में हुआ था गबन का खुलासा

बाड़मेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जांच रिपोर्ट में 13 लाख 28 हजार 219 रुपए की वसूली निकाली गई।  - Dainik Bhaskar
जांच रिपोर्ट में 13 लाख 28 हजार 219 रुपए की वसूली निकाली गई। 

बाड़मेर जिले की पंचायत समिति सिवाना की ग्राम पंचायत बेरीनाडी में 13 लाख रुपए के गबन का जांच रिपोर्ट में खुलासा होने के बावजूद कोई कार्यवाही नहीं हो पाई है। ग्राम पंचायत बेरीनाडी में तत्कालीन कार्यकारी एजेंसी ने पाइप लाइन बिछाने समेत अन्य कार्यों में गंभीर अनियमितताएं बरती है।

इसका सिवाना पंचायत समिति विकास अधिकारी की जांच रिपोर्ट में खुलासा हुआ है। विकास अधिकारी की जांच रिपोर्ट में 13 लाख रुपए तत्कालीन ग्राम सेवक व पूर्व सरपंच से वसूली करने की रिपोर्ट जिला परिषद को भेज दी। जांच रिपोर्ट छह माह पहले पूर्ण होने के बावजूद कोई वसूली नहीं हो पाई है। सिवाना पंचायत समिति बेरीनाडी ग्राम पंचायत के पूर्व कार्यकाल 2015 से 2019 के बीच पूर्व सरपंच व तत्कालीन ग्राम सेवक की ओर से विकास कार्यों में फर्जीवाड़ा करने की शिकायत सामने आई। जिसके लिए सीईओ जिला परिषद ने जांच कमेटी गठन कर विभिन्न कार्यों की जांच करवाई।

जांच में सामने आया कि पूर्व सरपंच व तत्कालीन ग्राम सेवक की मिलीभगत से कार्यकारी एजेंसी को बिना काम किए लाखों रुपए का भुगतान कर दिया गया। जांच रिपोर्ट में 13 लाख 28 हजार 219 रुपए की वसूली निकाली गई।

पानी की पाइप लाइन बिछाई ही नहीं, फिर भी उठा लिए नौ लाख रुपए

  • ग्राम पंचायत में देवीसिंह सोलंकी के बेरे से जीएसएस तक रेलों की ढाणी के लिए पाइप लाइन बिछाने के नाम पर 5 लाख रुपए उठा गए, लेकिन जांच दल के निरीक्षण के दौरान मौके पर कोई पाइप लाइन नहीं मिल गई। ऐसे में एजेंसी ने 4 लाख 45 हजार रुपए गबन किया है, जो जांच कमेटी ने वसूली योग्य माना है।
  • रेलों की ढाणी से जीएलआर जोड़ने के लिए पाइप लाइन बिछाने के नाम पर 4 लाख रुपए उठाए गए। जबकि सरपंच ने बयानों में बताया ऐसा कोई काम नहीं किया गया। कार्यकारी एजेंसी ने 4 लाख रुपए सरकारी राशि का दुरुपयोग किया, जो वसूली योग्य है।
  • जीएलआर कानीवाडी स्कूल रेबारी बस्ती व जीएलआर भीम बस्ती बेरानाडी के कार्य करने के लिए 3 लाख 9 हजार रुपए उठाए गए। जांच के दौरान उक्त स्थानों पर जीएलआर निर्मित पाए गए, लेकिन सरपंच व आसपास के लोगों ने जांच टीम को बताया कि निर्मित जीएलआर को पाइप लाइन से नहीं जोड़ा गया है। यहां किसानों ने निजी ट्यूबवेल से भरा जाता है। ऐसे में यह राशि भी वसूली योग्य है।
  • ग्राम पंचायत में मंच निर्माण के नाम पर 29 हजार, दीवारों पर चित्रकारी के नाम 99 हजार वसूली योग्य है। कुल पांच कार्यो में 13 लाख 28 हजार 219 रुपए की वसूली जांच टीम ने निकाली गई, जो चार माह बीतने के बावजूद वसूली नहीं गई है।

वर्तमान सरपंच की शिकायत पर जांच कमेटी गठित की गई। जिसकी सम्पूर्ण जांच कर जिला परिषद भेज दी गई। कुछ काम मौके पर नहीं मिले थे। जांच रिपोर्ट पूर्ण कर मार्गदर्शन के लिए फाइल जिला परिषद भेजी हुई है। -हनुमानराम, विकास अधिकारी, पंचायत समिति, सिवाना।

खबरें और भी हैं...