बाड़मेर में बढ़ता क्राइम, पुलिस रोकने में नाकाम:लोगों में दहशत, बैंक में लूट और वाहनों में आगजनी के मामले नहीं सुलझा पाई पुलिस

बाड़मेर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बाड़मेर पुलिस अपराधियों की धरपकड़ में नाकाम साबित हो रही है। जिले में लूट की घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं, लेकिन पुलिस उसे पकड़ने में नाकाम नजर आ रही है। पिछले डेढ़ माह में क्राइम का आंकड़ा खंगाला जाए तो लूट व वाहनों में आग लगाने की घटनाओं का खुलासा करने में पुलिस नाकाम रही है।

बालातेरा पुलिस ने एटीएम कार्ड से रुपए निकालने की ठगी का खुलासा करते हुए यूपी के 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, लेकिन पुलिस एसबीआई बैंक में दिनदहाड़े लूट और एटीएम मशीन से पैसे निकालने की वारदात का खुलासा नहीं कर पाई है। वाहनों में एक साथ आग लगाने के बाद लोगों में दहशत का माहौल है। आग लगाने वाले आरोपी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है।

4 अक्टूबर को SBI बैंक से लूट

नकाबपोश लुटेरे बाड़मेर के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) की शाखा खंडप से दिनदहाड़े 5 लाख 23 हजार 500 रुपए लूट ले गए। शाम 4:00 बजे तीन नकाबपोश लुटेरे बाइक पर आए। इनमें से दो के पास पिस्तौल और एक के पास चाकू था। उस समय बैंक में 8-10 ग्राहक थे। तीनों ने पहले कस्टमर्स को धमकाते हुए एक लाइन में खड़ा कराया। एक पिस्तौल धारी कैशियर के पास गया और साथ लाए बैग में वहां रखे 5.23 लाख रुपए समेट लिए। एक बदमाश मैनेजर के पास गया और उस पर पिस्तौल तान दी। करीब 4:05 बजे तीनों बाइक से फरार हो गए। पुलिस ने चारों तरफ नाकाबंदी की लेकिन आज तक लूटेरों का कोई सुराग नहीं लगा।13 अक्टूबर को शहर गांधी नगर मौहल्ले में 4 वाहनों में लगाई आग

बाड़मेर शहर के गांधी नगर मोहल्ले में देर रात बदमाशों ने वाहनों के नीचे बिस्तर रखकर व पेट्रोल डालकर आग लगा दी। बदमाशों ने एक-एक करके चार वाहनों को जला दिया। आग के गोला दिखने पर मोहल्ले के लोग जाग गए और वाहनों के आग बुझाने का प्रयास किया। तब तक दो गाड़ियां जलकर राख हो गईं तो दो गाड़ी आधी जल गईं। मोहल्ले के लोगों में दहशत का माहौल है। गाड़ी जलाने के सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद भी अभी तक पुलिस आरोपियों को पकड़ नहीं पाई है।

11 नवंबर को एटीएम मशीन से पैसे लूट कर ले गए

धोरीमन्ना कस्बे में एसबीआई बैंक के एटीएम मशीन को रात को बदमाशों ने गैस कटर से काटकर उसमें भरा करीब 10 लाख रुपए कैश चुरा लिए। 8 घंटे बाद भी बैंक को एटीएम से रुपए चोरी होने की भनक नहीं लगी थी। दूसरे दिन सुबह जब बैंक कैश नहीं निकलने पर बैंक ने एटीएम को संभाला तब पुलिस को सूचना दी। बैंक का कहना है कि उस रात एटीएम गार्ड छुट्‌टी में था। एटीएम में लाखों का कैश भरा था हुआ था गार्ड के छुट्‌टी पर जाने की स्थिति में उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी किसकी थी। पुलिस ने चोरों का पता लगाने की अलग-अलग टीमें भी बनाई लेकिन चोर आज भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है।

खबरें और भी हैं...