सीएम की फोटो-नाम लिख अधिकारी से ठगी की कोशिश:पहले किया वॉट्सऐप पर कॉल, फिर मैसेज भेज कर की रुपयों की डिमांड

बाड़मेर6 महीने पहले
सीएम को फोटो व नाम लिखकर अधिकारी के साथ ठगी की कोशिश।

राजस्थान में साइबर ठग ठगी के नए-नए तरीके अपना रहे हैं। सीएम, मंत्री व अधिकारियों की वॉट्सऐप पर डीपी लगाकर मैसेस कर ठगी करने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला बाड़मेर जिला परिषद सीईओ (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) के नंबर पर सामने आया। सीईओ के पास सबसे पहले वॉट्सऐप से अननोन नंबर से कॉल आया रिसीव नहीं किया। इस नंबर पर सीएम अशोक गहलोत की डीपी लगी हुई थी और नाम अशोक गहलोत लिखा हुआ है।

सीईओ ओपी विश्नोई के मुताबिक गुरुवार को वॉट्सऐप पर अननोन नंबर से कॉल आया। मैंने उठाया नहीं। इसके बाद व्हाट्सएप पर मैसेज आया। प्रोफाइल चैक की तो सीएम अशोक गहलोत का फोटो लगा था और नाम भी अशोक गहलोत लिखा हुआ था। मुझे इस फ्रॉड के बारे में जानकारी थी इस वजह से कोई रिप्लाई नहीं किया। फिर अमेजॉन क्रेडिट कार्ड के जरिए कुछ डिमांड की। मैं मीटिंग में हूं अर्जेंट रुपए कर दो मैं वापस कर दूंगा। इस पर मैंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। इसके बाद वॉट्सऐप कॉल भी आया लेकिन मैंने रिसीव नहीं किए। यह ऑनलाइन फ्रॉड है इसमें लोगों को भ्रमित कर गुमराह किया जाता है। व्हाट‌्सएप पर प्रोफाइल व नाम देखकर भ्रमित हो जाते हैं।

अमेजॉन क्रेडिट कार्ड के जरिए की डिमांड

सीईओ ने बताया कि ठग ने अमेजॉन क्रेडिट कार्ड के नाम पर करीब 40 हजार रुपए का सामान देने की बात कही। ट्रांजैक्शन के लिए कहा गया था लेकिन मैंने ऐसे केस देख रखे थे इसलिए मुझे फ्रॉड लगा। अभी तक इसकी शिकायत नहीं की है।

ऑनलाइन फ्रॉड से बचें

सीईओ ने लोगों से अपील की है कि आजकल ऑनलाइन फ्रॉड ज्यादा हो रहा है। वॉट्सऐप व फेसबुक पर अर्जेंट बहाना बनाकर किसी और के नाम से रुपए मांगते है। इससे बचना चाहिए।

ठगों ने अपनाया नया तरीका

इन दिनों ठगों ने एक शातिर तरीका अपनाते हुए सीएम से लेकर मंत्री, नेताओं और बड़े अधिकारियों के नाम से ठगी करना शुरू किया है। वे एक मोबाइल नंबर लेकर उस पर नेता या अधिकारी की प्रोफाइल बनाकर उनका फोटो लगा लेते हैं। फिर उन नंबरों से लोगों को उनके नाम से फोन करके ठगी आदि का प्रयास करते हैं। हाल ही में IPS दिनेश एमएन के नाम से भी ठगी की कोशिश की गई थी। वॉट्सऐप पर उनका फोटो लगाकर लोगों से रुपए मांगे गए थे।