3 दिन बाद इंटरनेट सेवा शुरू, एसपी की चेतावनी:पुलिस की सोशल मीडिया पर पैनी नजर, आपत्तिजनक पोस्ट पर होगी कार्रवाई

बाड़मेर3 महीने पहले

उदयपुर में 28 जून को कन्हैयालाल की बर्बरतापूर्वक मर्डर करने के बाद सरकार ने प्रदेश में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी। इंटरनेट बंद होने व ऑनलाइन पेमेंट नही होने से हर कोई परेशान नजर आया।शनिवार को करीब 78 घंटे बाद सुबह 6 बजे इंटरनेट सेवा फिर से शुरू की गई। आम लोगों से लेकर व्यापारियों तक ने राहत की सांस ली। वहीं, इंटरनेट शुरू करने के साथ ही एसपी ने सोशल मीडिया आपत्तिजनक टिप्पणी नहीं करने की अपील की है।

दरअसल, कन्हैयालाल मर्डर के बाद से ही लोगों में आक्रोश था। हर कोई हत्यारों को फांसी देने की मांग कर रहा है। वहीं, संभागीय आयुक्त हिमांशु गुप्ता ने 28 जून की रात को 12 बजे से बाड़मेर, जैसलमेर, जालोर, सिरोही, पाली जिलों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी थी। इसके बाद से आम लोगों से लेकर व्यापारियों को बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ा। वहीं, प्रतियोगी परीक्षा देने वाले स्टूडेंट्स भी अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड नहीं कर पा रहे थे। संभागीय आयुक्त हिमांशु गुप्ता ने शुक्रवार शाम को आदेश जारी करके जोधपुर संभाग के जिलों में शनिवार सुबह 6 बजे से इंटरनेट शुरू करने के आदेश दिए थे। ब्रॉडबैंड व लीज लाइन सेवा ही चालू रही बाकी मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद थी। शनिवार सुबह सभी कंपनियों ने इंटरनेट सेवा सुबह 6 बजे शुरू कर दी है। इससे लोगों ने राहत की सांस ली।

एसपी दीपक भार्गव ने लोगों से की अपील, सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी नहीं करें।
एसपी दीपक भार्गव ने लोगों से की अपील, सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी नहीं करें।

बाड़मेर एसपी की अपील-चेतावनी

शनिवार तीन दिन बाद इंटरनेट सेवाएं बहाल की गई है। एसपी दीपक भार्गव ने लोगों से अपील की है कि सोशल मीडिया व अन्य प्लेटफार्म पर संयम बरतें। एक गलत टिप्पणी, गलत फ़ोटो, गलत संदेश, गलत लाइक, गलत स्टेटस से भावनाएं भड़क सकती हैं, या माहौल खराब हो सकता है। बेहद संयम व सावधानी बरतें। गलती या हंसी मज़ाक में धार्मिक भावनाएं आहत करने वाला कुछ नहीं रखें, नहीं फॉरवर्ड करे। मोबाइल व सोशल मीडिया प्लेटफार्म से बच्चों को दूर रखें। पुलिस व अन्य संस्थाएं की कड़ी नजर सोशल मीडिया पर है। यदि आपको कुछ आपत्तिजनक मिलता है तो तुरंत कंट्रोल रूम या अन्य पुलिस अधिकारी को सूचित करें। किसी भी सूरत में उसे किसी ग्रुप या अन्य कहीं फॉरवर्ड नहीं करें। जानबूझ कर या गलती से धार्मिक भावनाएं आहत करने वाली पोस्ट कानूनी कार्रवाई की जाएगी।